राजनीति से समाप्त हो जाएगा वंशवाद

By Lav Gadkari
Aug 31 2015 11:45 AM
राजनीति से समाप्त हो जाएगा वंशवाद

नई दिल्ली : राजनीति में परिवारवाद और वंशवाद जल्द ही समाप्त होगा। इसकी इस क्षेत्र में कोई जगह नहीं रहेगी। वित्तमंत्री अरूण जेटली ने 1991 को भारतीय इतिहास के लिए एक निर्णायक मोड़ कहा है। वित्तमंत्री अरूण जेटली ने कहा कि अर्थव्यवस्थाओं के उदारीकरण के बाद दुनिया पहले की तुलना में कहीं अधिक क्रूर हो गई। इस दौरान यह कहा गया है कि जो सबसे ठीक होगा वही टिकेगा और जो सबसे उत्कृष्ट होगा वही पुरस्कार भी पाएगा। यही नहीं नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी के तीसरे दीक्षांत समारोह में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए वित्तमंत्री अरूण जेटली ने कहा कि कानून और कारोबार के क्षेत्र में सबसे ठीक ही टिकता है।

इस दौरान यह बात सामने आई है कि परिवार के नाम, खानदान और वंशावली कोई महत्व नहीं रखती है। इस दौरान कहा गया कि शीर्ष 50 कंपनियां पारंपरिक व्यावसायिक घराने की नहीं हैं उम्मीद जताई जा रही है कि राजनीति में परिवार और वंशावली का महत्व नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के ही साथ कुछ ऐसे राजनीतिक दल प्रमुख हें जिनमें वंशवाद हावी है। उन्होंने देश से प्रतिभा पलायन को लेकर कहा कि देश से प्रतिभापलायन अब नहीं होता अब देश के पास ब्रेन बैंक है।