आज है वामन जयंती, ऐसे करें पूजन और पढ़े यह कथा

Sep 10 2019 11:42 AM
आज है वामन जयंती, ऐसे करें पूजन और पढ़े यह कथा

आप सभी को बता दें कि आज यानी मंगलवार को वामन जयंती मनाई जा रही है. ऐसे में वामन को भगवान विष्णु का पांचवा अवतार माना जाता है.  कहते हैं श्रवण नक्षत्र में भगवान विष्णु वामन रूप में अवतरित हुए थे और सबसे बड़ी बात यह है कि मंगलवार को सुबह 11 बजकर 10 मिनट से श्रवण नक्षत्र लग जाएगा. वहीं इस दिन श्री वामन भगवान के निमित्त पूजन आदि करने का विधान माना गया है. ऐसे में भाद्रपद शुक्ल पक्ष की द्वादशी को गाय बछड़ा पूजन भी करते हैं और इस दिन सुबह स्नान आदि के बाद गाय और बछड़े को भली प्रकार से स्नान कराकर उनकी पूजा करते हैं. इसी के साथ उनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया जाता है. इसी के साथ आज गाय के दूध, दही या अन्य चीज़ों का सेवन नहीं करना चाहिए, बल्कि इन चीज़ों का आज के दिन दान देना चाहिए. इस दिन शाम के समय पूजा करते हैं. आइए जानते हैं पूजा विधि.


वामन जयंती के दिन ऐसे करें पूजा - व्रत दिन व्रत का संकल्प लें और इसके बाद स्नान करने के बाद प्रभु के समक्ष उपस्थित हो कर व्रत का प्रण लें. अब इसके बाद दोपहर यानी अभिजित मुहूर्त में पूजा करें या शाम के समय पूजा करें. भगवान विष्णु के वामन रूप की प्रतिमा की पूजा करें और दक्षिणावर्ती शंख में गाय का दूध लेकर उनका अभिषेक जरूर करें. इसके बाद एक बर्तन में चावल, दही और शक्कर रख कर भगवान को चढ़ा दें और बाद में इसे ब्राह्मण को दान कर दें. अब इसके बाद वामन भगवान की पूजा शाम को करें और इसके लिए दोबारा स्नान करें और पूजा करने के बाद भगवान की कथा सुने या पढ़े. इसके बाद गरीबों को भोजन करवाएं और भोजन न करा सकें तो फल का दान करें.

वामन जयंती व्रत कथा - श्रीमद्भगवद पुराण में वामन अवतार के बारे में कहा गया है कि ''देव और दैत्यों के युद्ध में देव पराजित होने लगते हैं. असुर सेना अमरावती पर आक्रमण करने लगती है. तब इन्द्र भगवान विष्णु की शरण में जाते हैं. भगवान विष्णु उनकी सहायता करने का आश्वासन देते हैं और भगवान विष्णु वामन रुप में माता अदिति के गर्भ से उत्पन्न होने का वचन देते हैं. दैत्यराज बलि द्वारा देवों के पराभव के बाद कश्यप जी के कहने से माता अदिति पयोव्रत का अनुष्ठान करती हैं जो पुत्र प्राप्ति के लिए किया जाता है. तब भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की द्वादशी के दिन अदिति के गर्भ से प्रकट हो अवतार लेते हैं तथा ब्राह्मण-ब्रह्मचारी का रूप धारण करते हैं.''

हाथ की यह रेखा बताती है भविष्य में आप होंगे अमीर या गरीब

कुंभ राशिवालों को मिलती है नौटंकीबाज पत्नी, जानिए कैसी होगी आपकी पत्नी

घर के मुख्य द्वार पर आज ही लगाए हनुमान जी की ऐसी तस्वीर