वैष्णो देवी पर विवाद, BJP-RSS पर लगे गंभीर आरोप

Sep 08 2015 02:43 PM
वैष्णो देवी पर विवाद, BJP-RSS पर लगे गंभीर आरोप

जम्मू : त्रिकुटा पहाडिय़ों पर माता वैष्णो देवी तीर्थ के दर्शन करने के लिए कटरा से हेलीकॉप्टर सेवा पर सर्विस टैक्स लगाए जाने पर नैशनल कान्फ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह राणा ने इसकी जम कर आलोचना की. उन्होंने कहा कि भाजपा- RSS की योजना श्राइन बोर्ड को अपने हाथ में करना है जिसे हम किसी भी हाल में नहीं होने देंगे. भाजपा-आरएसएस उत्तरी भारत के प्रतिष्ठित और सबसे बड़े पवित्र मंदिर का प्रबंधन अपने हाथों में करना चाहती है जिसकी अनुमति उन्हें कभी नहीं दी जाएगी.

राणा ने कहा कि मंदिर के मामलों में संघ परिवार हस्तक्षेप कर जम्मू-कश्मीर श्री माता वैष्णो देवी श्राइन अधिनियम, 1986 में संशोधन करने के लिए प्रयास कर रहा है. राज्य के खजाने को भरने के लिए सेवा कर लगाना उपाय नहीं बल्कि यह आदेश केवल नागपुर और झंडेवाला से निर्देशित हुआ है और PDP भी जम्मू-कश्मीर में संघ के एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए मदद कर रही है.

प्रांतीय अध्यक्ष ने कहा कि श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ फारूक अब्दुल्ला के कार्यकाल के दौरान एक विधायी अधिनियम द्वारा गठित किया गया था. यहां तक ​​कि वर्तमान में, भाजपा बोर्ड के नाक में दम कर रहा है और पीडीपी संघ के खेल का हिस्सा बन रही है. उन्होंने कहा कि राणा ने कहा कि गठबंधन सरकार आग के साथ खेल रही है और भाजपा के दबाव में श्रद्धालु विरोधी नीतियां बनाई जा रही है जिसके चलते श्रद्धालुओं को प्रताडित किया जा रहा है.