UP सरकार ने सौंपी दादरी कांड को लेकर रिपोर्ट, बीफ का उल्लेख नहीं

लखनऊ : उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा दादरी की घटना को लेकर केंद्र को रिपोर्ट सौंप दी गई है। हालांकि इस तरह की रिपोर्ट में बीफ का उल्लेख भी नहीं किया गया है। मामले को लेकर घटना का उद्देश्य नहीं बताया गया।  राज्य सरकार ने अपनी रिपोर्ट में बीफ के स्थान पर एक शब्द का उल्लेख किया है। जिससे यह साफ नहीं हो पा रहा है कि हत्या से बीफ का कोई संबंध था या नहीं। दादरी का दौरा करने वाले नेताओं की बात भी इस मामले को लेकर कही गई है। इस मामले में यह भी कहा गया है कि प्रदेश सरकार द्वारा कहा गया है कि इस तरह के मामले की जांच की जा रही है।

जांच के दौरान विभिन्न तरह के तथ्यों का खुलासा हो सकता है। मिली जानकारी के अनुसार राज्य सरकार द्वारा बीफ के स्थान पर प्रतिबंधित पशु के मांस का उल्लेख कर इस रिपोर्ट को कुछ साॅफ्ट किए जाने का प्रयास किया गया। प्रदेश सरकार ने कहा कि इसकी जांच की जा रही है। माना जा रहा कि इसमें कुछ और बात भी सामने आ सकती है।

बता दे कि बिसाहड़ा में गौमांस की अफवाह उड़ाई गई, जिसमें अखलाक की मौत हो गई। बिसाहड़ा में गौमांस की अफवाह को लेकर अखलाक की मौत पर राजनीति भी कम नहीं हो रही है। बड़े पैमाने पर नेता अखलाक के घर मिलने पहुंच रहे हैं। दूसरी ओर भाजपा सांसद योगी आदित्य नाथ द्वारा भी बिसाहड़ा गांव पहुंचने की संभावना जताई गई है।

इसके पूर्व बिसाहड़ा गांव में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और एमआईएम प्रमुख असदुद्दीन औवेसी आदि अखलाक के घर जाकर दौरा कर चुके हैं। इस दौरान कहा गया है कि मुख्यमंत्री द्वारा उनके परिवार को 45 लाख रूपए की सहायता प्रदान की गई। 30 लाख उनकी पत्नी और 5 लाख रूपए तक अलग अलग मदों में अखलाक के तीन भाईयों को दिए गए थे। मामले में पुलिस द्वारा कहा गया कि इस तरह के मसले पर 9 लोगों को पकड़ लिया गया है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -