उत्तराखंड में एक दिन पहले पहुंच सकता है मानसून

उत्तराखंड प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में 11 जून से प्री मानसून बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा इस दौरान गढ़वाल और कुमाऊं के अधिकांश क्षेत्रों में भारी बारिश हो सकती है। वहीं मौजूदा हालातों में मानसून तय समय से एक दिन पहले उत्तराखंड में एंट्री कर सकता है। वहीं मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल प्रदेश में हल्की बारिश का क्रम बना हुआ है। वहीं ज्यादातर स्थानों पर बादल छाये रहने के साथ बारिश हो सकती है। इसके अलावा 11 जून से प्रदेश में प्री मानसून शावर हो सकते हैं। इसके चलते अपेक्षाकृत ज्यादा बारिश का अनुमान है। वहीं मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अभी ज्यादातर क्षेत्रों में हल्की बारिश हो रही है। वहीं इसमें 11 से तेजी आ सकती है। उन्होंने बताया कि 11 से 14 तक प्रदेश के कई इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है।प्रदेश में मानसून निर्धारित कार्यक्रम से एक दिन पहले एंट्री कर सकता है।

इसके साथ ही मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया है कि केरल में भी मानसून एक दिन पहुंच सकता है । बंगाल की खाड़ी में बन रहे कम दबाव के कारण ओडिशा, बंगाल और पूर्वोत्तर में भी समयपूर्व मानसून पहुंचा है। इसके अलावा मौसम विभाग के अनुसार पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती संचरण के चलते अगले 48 घंटों में कम दबाव का क्षेत्र बनेगा। वहीं इससे अगले 24 घंटों के दौरान मानसून की रफ्तार बढ़ जाएगी। वहीं इससे मानसून 21 के बजाय 20 जून को भी उत्तराखंड पहुंच सकता है। वहीं मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में अगले कुछ दिन गर्मी और उमस में इजाफा होगा। कुछ पहाड़ी इलाकों में बारिश होने का अनुमान है, लेकिन इसका मैदान की गर्मी पर कोई असर नहीं पड़ेगा। फ़िलहाल मैदानी क्षेत्रों में शाम के समय 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चल सकती है।

राजधानी दून और आसपास के इलाकों में सोमवार दोपहर बाद बारिश की फुहारों ने गर्मी व उमस से राहत दिलाई। ज्यादातर क्षेत्रों में काफी देर तक फुहारें पड़ती रहीं। इससे शाम और रात के तापमान में भी कमी आई। वहीं मौसम विभाग ने मंगलवार को भी अधिकांश इलाकों में हल्की बारिश का अनुमान जताया है।वहीं सोमवार सुबह लगभग सभी जगह आसमान साफ रहा और बादल छाये रहे। दोपहर बाद मौसम ने करवट ली और आसमान में काले बादल छाने के साथ ही तेज हवा भी चली।वहीं  कुछ देर में तेज फुहारें पड़ने लगीं, जो करीब 15 से 20 मिनट तक जारी रहीं। कुछ क्षेत्रों में रात के समय भी बारिश हुई। वहीं मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार मंगलवार को भी राजधानी और उससे लगे इलाकों में बारिश हो सकती है। वहीं शाम के समय तेज हवा भी चल सकती हैं। कुछ जगह पर तेज फुहारें भी पड़ सकती है।

विश्व का पहला 'कोरोना मुक्त' देश बना न्यूज़ीलैंड, ख़ुशी में नाची पीएम जेसिंडा

यूपी में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला

लॉकडाउन में बढ़ा बाल तस्करी बढ़ने का खतरा, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगी रिपोर्ट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -