हरिद्वार: तीर्थ यात्रियों के प्रवेश पर पूरी तरह से पाबंदी

देहरादून: कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए उत्तराखंड सरकार इस समय अलर्ट मोड पर है। इसी के चलते, कांवड़ यात्रा को रद्द करने के बाद बॉर्डर पर भी सतर्कता बढ़ाई जा चुकी है। जी दरअसल सरकार यह नहीं चाहती कि पाबंदी लगाने के बाद कोई भी भक्त 25 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के लिए हरिद्वार पहुंचे। इसी को सुनिश्चित करने के लिए अब अन्य राज्यों से लगते उत्तराखंड के सभी बॉर्डर्स पर सुरक्षा बढ़ाई जा चुकी है। आपको बता दें कि हरिद्वार के एसएसपी ने कांवड़ियों को जिले में प्रवेश नहीं करने देने का आदेश जारी किया है।

हाल ही में उन्होंने कहा कि, ''बाहर ने आने वालों को 14 दिनों तक क्वारंटीन किए जाने का प्रावधान है।'' इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि, ''अगर कोई भी व्यक्ति जिले में प्रवेश करने की कोशिश करेगा तो उसका वाहन जब्त कर लिया जाएगा, वहीं नियम तोड़ने वाले के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।'' दूसरी तरफ सरकार के इस फैसले पर अधिकारियों का कहना है कि, ''कांवड़ियों को शहर में प्रवेश करने से रोकने के लिए करीब एक दर्जन चेक पोस्ट पर पुलिस और इंटेलिजेंस टीमों को तैनात किया जाएगा। पड़ोसी राज्य यूपी से हरिद्वार पहुंचने वाले दूसरे रास्तों पर भी अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ ही बैरिकेडिंग भी की जाएगी।''

जी दरअसल यूपी में कांवड़ यात्रा को मंजूरी दे दी गई है। आपको बता दें कि यूपी से शिवभक्त गंगा जल लेने के लिए पहुंच सकते हैं। दूसरी तरफ हरिद्वार के सीनियर पुलिस अधिकारी डी सेंथिल अबूदई कृष्ण का कहना है कि, 'उत्तराखंड सरकार की तरफ से ये सख्त कदम पड़ोसी राज्यों को यह संदेश देने के लिए उठाए जा रहे हैं। सभी सुरक्षा उपायों के जरिए उन्हें ये बताने की कोशिश की जा रही है कि इस साल उत्तराखंड में कांवड़ तीर्थयात्रा नहीं होगी।' आपको यह भी बता दें कि, कोरोना संक्रमण को लेकर उत्तराखंड सरकार इस समय सतर्क रह रही है। जी दरअसल CM पुष्कर सिंह धामी नहीं चाहते कि राज्य में एक बार फिर कुंभ जैसी स्थिति बने।

आर्थिक तंगी का शिकार हो गई है यह अदाकरा, कहा- 'नहीं जानती कैसे जी पाऊंगी'

क्या है आज के शुभ-अशुभ मुहूर्त, यहाँ जानिए पंचांग

इन राशिवालों को आज लग सकती है चोट, जानिए क्या कह रहे हैं आपकी राशि के सितारे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -