केदारनाथ में फंसे उत्तराखंड पूर्व सीएम, जद्दोज़हद के बाद सुरक्षित बाहर निकाला

केदारनाथ में भारी बर्फबारी,तूफान और बारिश के कारण कई जगहों पर यात्रियों के फंसने की खबर आने के बाद से पुलिस और प्रशासन ने पांच-पांच का ग्रुप बनाकर कर यात्रियों की मदद करने वाली टीम बनाई है. मौसम विभाग की दी गई जानकारी के अनुसार तूफान और बारिश के अलर्ट का असर चार धाम यात्रा पर भी देखने को मिला है. सूचना केबाद से ही पुलिस ने सुरक्षा की दृष्टि से तीर्थयात्रियों को पड़ावों पर ही रोकना शुरू किया पर जो यात्री पैदल मार्गों पर थे, उनके बर्फ़बारी में फंसने की खबर आने के बाद से ही उनके बचने की कवायद तेज़ कर दी गई. 

ख़राब मौसम और भारी बर्फ़बारी में फंसे यात्रियों में उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत के साथ केदारनाथ विधयाक मनोज रावत और राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा भी यहाँ मौजूद थे. शाम को मौसम साफ होते ही हेलीकॉप्टर से पूर्व सीएम हरीश रावत और उनके साथियों को गुप्तकाशी पहुँचाया गया.

हिन्दू धर्म में चारधाम यात्रा को सारे तीर्थों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है. ऐसा माना जाता है की जिस व्यक्ति ने अपने जीवन में इस यात्रा को पूर्ण नहीं किया उसका जीवन व्यर्थ होता है. चारधाम की यात्रा के पड़ाव में केदारनाथ और बद्रीनाथ भी आते है. ख़राब मौसम की चेतावनी के कारण मई के महीने में शुरू होने वाली चारधाम यात्रा को भारी बर्फ़बारी और बारिश के चलते कुछ समय के लिए रोकने के निर्देश दिए गए.

मौसम से हुई तबाही पर गृह मंत्रालय की रिपोर्ट

अब साउथ में भी बनेगी सबसे बड़े बजट की फिल्म

उत्तराखंड सीएम ने ग्राम स्वराज कार्यक्रम में सुनी जनता की समस्याएं

किन्नर अखाडा प्रमुख ने ट्रांसजेंडर्स को दी चेतावनी, किन्नर समाज को बदनाम ना करें

घरेलु विवाद के बाद युवक ने मामी को दाँतों से बेरहमी से काटा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -