एक ही दिन में बना है ये अनोखा शिव मंदिर

एक ही दिन में बना है ये अनोखा शिव मंदिर

देशभर में भगवान शिव के इतने मंदिर हैं जिनके बारे में आप जानते भी नह होंगे. कुछ मंदिर बनाये गए हैं तो कुछ अपने आप ही बने हैं यानी स्वयंभू जिसे कहते हैं. जहां भगवान शिव अपने आप वास करने लगते हैं वहां पर भक्त मंदिर बनवा देते हैं. ऐसे ही एक मंदिर के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जो बहुत ही खास है और इतना अनोखा है कि एक ही दिन में बनकर तैयार भी हो गया था. नहीं जानते तो आपको भी बता देते हैं इस अनोखे और खास मंदिर के बारे में.

अपनी उम्र को मात देकर यह काम कर रहीं हैं 89 साल की दादी

दरअसल, इस अनोखे मंदिर को देखने लोग दूर-दूर से आते हैं जो उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के थल में 6 किमी दूर बल्तिर गांव में हथिया देवाल मंदिर है जिसकी अनोखी कला को देखने के लिए कई दूर से पर्यटक आते हैं लेकिन इस मंदिर में कोई पूजा नहीं करता. कहा जाता है ये पुराने समय में इस जगह पर राजा कत्यूरी का शासन था जिन्हें स्थापत्य कला बेहद पसंद थी. इस स्थान को एक कुशल कारीगर ने एक ही दिन में बना दिया था. खास बात तो ये है कि इसे बनाने वाले कारीगर ने एक ही हाथ से इसे बना दिया था. ग्रंथों में भी इस मंदिर का उल्लेख मिलता है.

स्कूलों के अटेंडेंस टेबलेट में दिख रही अश्लील तस्वीरें, आईटी ने दिया ये जवाब

कहा जाता है ये कैगार एक गाँव में मूर्ति बनाया करता है जिसके कारण इसका एक हाथ ख़राब हो गया था. इसी के कारण उस मूर्तिकार को गाँव वाले काफी कुछ सुनाते थे. एक बार एक रात अपनी छेनी, हथौड़ी और अन्य औजारों को लेकर गांव के दक्षिणी छोर की ओर निकल पड़ा. वहीँ उसे विशाल चट्टान मिली जिसे रातों रात उसने काट पीट कर एक मंदिर बना दिया जिसके बाद वो वहां से चला भी गया.

देख भाई देख..

Video : गूगल अर्थ पर दिखा हैरानी भरा नज़ारा, चौंक रहे सभी

Friendship Day : ऐसे दोस्त ही बनाते हैं आपकी लाइफ को क्रेजी

 

?