उत्तराखण्ड मदरसा बोर्ड का बड़ा फैसला, मुस्लिम महिलाओं के लिए उठाया ये कदम

Aug 04 2019 04:05 PM
उत्तराखण्ड मदरसा बोर्ड का बड़ा फैसला, मुस्लिम महिलाओं के लिए उठाया ये कदम

देहरादून: पहली बार उत्तराखण्ड के मदरसों में मुस्लिम महिलाओं को बड़ा मौका मिलने वाला है. राज्य के लगभग तीन सौ मदरसों में महिला शिक्षकों की बड़े पैमाने पर नियुक्ति की जाएगी. इससे पहले प्रदेश के मदरसों में कभी भी इस स्तर पर मुस्लिम महिलाओं के लिए दरवाज़े नही खोले गए थे. राज्य में इस वक़्त मान्यता प्राप्त मदरसों की कुल संख्या 297 हैं जिसमें सैतालीस हजार के लगभग विद्यार्थी पढ़ते हैं.

ज्यादातर मदरसों में पुरूष शिक्षक ही बच्चों को पढ़ाते हैं, किन्तु अब महिलाओं को बड़ा अवसर मिलने वाला है. उत्तराखण्ड मदरसा बोर्ड ने  राज्य  के मदरसों में महिला शिक्षकों की नियुक्ति करने का बड़ा फैसला लिया है. इसमें विशेष तौर पर उन मदरसों में नियुक्ति होगी जहां छात्राएं पढ़ती हैं. मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष बिलाल उर रहमान ने कहा कि बोर्ड द्वारा 40 फीसद महिला शिक्षकों का प्रस्ताव रखा गया था जिसे सबकी सहमति से पारित कर दिया गया है.

बोर्ड अध्यक्ष के अनुसार मुस्लिम महिलाओं को स्वावलम्बी बनाने में भी ये कदम बेहद कारगर सिद्ध होगा. एक ओर जहां महिलाओं के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे, वहीं इन मदरसों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए भी अपने सामने कुछ नया देखने और सीखने को मिलेगा. बोर्ड के चेयरमैन के अनुसार, जल्द ही महिला शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी. 

सीसीडी के संस्थापक सिद्धार्थ के पास इतने रूपये की बेहिसाब संपति थी

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर गिरती अर्थव्यव्स्था को लेकर निशाना

देश का दोपहिया वाहन उद्योग भी मंदी के गिरफ्त में