नीति आयोग की बैठक में बोले उत्तराखंड के सीएम, कहा- हमें मिलना चाहिए वित्तीय सहायता

नीति आयोग की बैठक में बोले उत्तराखंड के सीएम, कहा- हमें मिलना चाहिए वित्तीय सहायता

नई दिल्ली: उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पीएम मोदी के नेतृत्व में हुई नीति आयोग की बैठक में शामिल हुए. उन्होंने हिमालयी स्टेट रीजनल काउंसिल, केदारनाथ पुनर्निर्माण परियोजना, चारधाम महामार्ग परियोजना, ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे परियोजना और नमामि गंगे परियोजना के लिए पीएम मोदी का आभार जताया.

सीएम रावत ने केंद्र सरकार से मांग की कि उत्तराखण्ड को अपनी पर्यावरणीय सेवाओं के लिए प्रोत्साहन के रूप में आर्थिक सहायता मिलनी चाहिए. मिड-डे मील में मंडुवा, झंगौरा भी शामिल किए जाएं. उत्तराखण्ड के सीमांत क्षेत्रों में सड़क के साथ ही एयर व रेल कनेक्टिविटी भी विकसित की जाएं. इस बैठक में सीएम रावत ने विभिन्न बिंदुओं पर विस्तार से जानकारी देते हुए कहा है कि उत्तराखण्ड राज्य द्वारा अपने दो-तिहाई भू-खंड पर वनों का संरक्षण सुनिश्चित करके देश को अहम् पर्यावरणीय सेवायें (ईको-सिस्टम सर्विसेज) प्रदान कर रहा है.

उन्होंने कहा कि इन पर्यावरणीय सेवाओं के लिए हमें अपने विकास के मौकों का परित्याग करना पड़ रहा है. अतः भारत सरकार से आग्रह है कि क्षतिपूर्ति अथवा प्रोत्साहन के तौर पर समुचित आर्थिक सहायता राज्य को मुहैया करायी जाये. राज्यों की परम्परागत फसलों को प्रोत्साहन  देने के लिए सीएम रावत ने सुझाव दिया कि मिड-डे-मील में चावल एवं गेहूँ के अलावा राज्यों की परम्परागत फसलें जैसे मंडुवा, झिगौरा आदि अनाज को शामिल करना चाहिए. 

ट्रेनों में मालिश को लेकर सियासत तेज, सुमित्रा महाजन ने रेल मंत्री को लिखा पत्र

ममता बनर्जी ने मारा यू-टर्न, घायल डॉक्टर से नहीं मिलेंगी, बुलाई इमरजेंसी मीटिंग

गृह मंत्रालय ने ममता सरकार से मांगी रिपोर्ट, पुछा- हिंसा रोकने के लिए क्या कदम उठाए ?