कृषि कानून रद्द होने पर बोले योगी- "ऐतिहासिक फैसला..."

सेंट्रल गवर्नमेंट ने आज 3 कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय कर लिया है. सेंट्रल गवर्नमेंट जल्द ही संसद में इसको लेकर प्रस्ताव लाएगी और जिसके उपरांत इसे रद्द किया जानें वाला है. वहीं आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फैसले के उपरांत यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने केन्द्र सरकार के इस निर्णय का स्वागत करते हुए इसे ऐतिहासिक कदम बताया है. मुख्यमत्री योगी ने बोला है कि मैं उत्तरप्रदेश शासन की ओर से सेंट्रल गवर्नमेंट और पीएम नरेन्द्र मोदी का हॄदय से स्वागत करता हूँ.

मुख्यमंत्री योगी ने बोला है कि हम सब जानते हैं कृषि कानूनों को लेकर किसान संगठन आंदोलन कर रहे थे और आज गुरुपर्व पर पीएम जी ने लोकतंत्र में संवाद की भाषा का उपयोग करते हुए 3 कृषि कानून को वापस लेने का निर्णय कर लिया. ये एक ऐतिहासिक कार्य किया है और मैं इस निर्णय का स्वागत करता हूं. उन्होंने बोला है कि शुरू से ही इस सम्बंध में एक बड़ा समुदाय ये मानता था कि किसानों की आमदनी को बढ़ाने के लिए इस तरह के कानून महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले है. लेकिन उसके बावजूद किसान संगठनों इसका विरोध किया.

एमएसपी के लिए समिति बनाने का स्वागत: जहां इस बात का पता चला है कि हालांकि गवर्नमेंट की तरफ से हर स्तर पर संवाद बनाने की कोशिश की. मुख्यमंत्री योगी ने बोला है कि हम लोगों की तरफ से कोई कमी देखने को मिल सकती है, जिसकी वजह से  हम (सरकार) उन लोगों को समझाने में कहीं न कहीं विफल रहे और जिसके उपरांत उनको आंदोलन के रास्ते आगे बढ़ना पड़ा था. मुख्यमंत्री योगी ने बोला है कि तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने, और MSP को भी लेकर एक समिति के गठन के केन्द्र सरकार के निर्णय  का  यूपी गवर्नमेंट स्वागत करती है. वहीं गुरुपर्व के मौके पर सीएम योगी ने शुभकामनाएं दी हैं.

किसान आंदोलन में जान गंवाने वालों के परिजनों को 25-25 लाख दे सरकार, कांग्रेस नेता की मांग

कृषि कानूनों की वापसी के बाद लालू ने अनोखे अंदाज में दी किसानों को बधाई, कहा- बहुमत में अहंकार...

सदन में रो पड़े चंद्रबाबू नायडू, बोले- जब तक सत्ता में नहीं आता, तब तक विधानसभा में कदम नहीं रखूँगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -