मनपसंद लड़की से निकाह.. 4 लाख नकद.., यूपी में इस तरह चल रहा था धर्मान्तरण का खेल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अवैध धर्मान्तरण का रैकेट चलाने के आरोप में ATS द्वारा अरेस्ट किए गए मौलाना कलीम सिद्दीकी की मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही हैं। इस मामले में मुजफ्फरनगर जिले के चरथावल के निवासी अमित प्रजापति की शिकायत पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने आरोपित मौलाना के खिलाफ नया मामला दर्ज किया है। अमित ने मौलाना सहित 6 लोगों पर उसे जबरन गोमांस खिलाने और धर्मान्तरण कराने का इल्जाम लगाया है। पीड़ित का आरोप है कि उसे 4 लाख रुपए का प्रलोभन भी दिया गया था। पुलिस ने धर्मान्तरण कानून के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

प्रजापति ने पुलिस को दी गई शिकायत में खुलासा किया है कि वर्ष 2014 में एक फर्नीचर के शोरूम में वह हाजी सलीम नाम के एक शख्स से मिला था। इसके बाद मई 2014 में सलीम उसे फूलत मदरसा लेकर गया था। प्रजापति का कहना है कि मदरसे में मौलाना कलीम सिद्दीकी ने उसे कलमा सुनाने और इस्लाम स्वीकार करने के लिए कहा। उसने 4 लाख रुपए नकद और उसकी पसंद की लड़की से निकाह का प्रलोभन देकर उसका धर्मान्तरण करवा दिया। धर्मान्तरण के बाद उसे अब्दुल्ला नाम दिया गया। प्रजापति के अनुसार, बाद में उसे महाराष्ट्र के जमात में ले जाया गया और जहाँ वह 40 दिनों तक रहा। जमात में उसे कलमा और नमाज पढ़ने का प्रशिक्षण देने के बाद देवबंद मदरसा भेज दिया गया। देवबंद में उसे उर्दू और अरबी सिखाई गई। बाद में उसे दूसरे लोगों का भी धर्मान्तरण कराने का काम सौंपा गया। यही नहीं अमित प्रजापति को 4 लाख रुपए दिए गए, जिससे उसने चरथावल में एक प्लॉट खरीदा।

पीड़ित ने पुलिस को दी गई शिकायत में बताया है कि इसी साल 25 अक्टूबर 2021 को हाजी सलीम, दिलशाद, जाहिद मुल्ला, नौशाद छोटा, यामीन और इसरार प्रधान उससे मिलने आए थे। वे लोग अपने साथ टिफिन में गोमांस भी लाए थे। अमित ने आरोप लगाया है कि जब उसने बीफ खाने से मना किया तो आरोपितों ने उसके साथ मारपीट करते हत्या की धमकी दी। पीड़ित के अनुसार, सिद्दीकी सहित अन्य आरोपितों ने उसे दूसरे धर्मों के खिलाफ भड़काऊ बात कहने के लिए विवश किया और उसका वीडियो भी बना लिया। पीड़ित ने दावा किया कि वीडियो अभी भी सिद्दीकी के यूट्यूब चैनल अल्कलम पर उपलब्ध है।

पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर सुबह-सुबह मिली 'खुशखबरी', जानिए आज का भाव

गुवाहाटी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर किसी भी महिला स्टाफ को पारंपरिक कपड़ों पहनने से मना नहीं किया है | : GIA

ओडिशा ने पहली बार राष्ट्रीय योगासना खेल चैंपियनशिप की मेजबानी की

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -