यूपी सरकार ने ख़त्म किया वर्क फ्रॉम होम, कोरोना के घटते मामलों के चलते लिया फैसला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के कम होते मामलों के बीच राज्य सरकार ने कर्मचारियों को लेकर बड़ा निर्णय लिया है. दरअसल, अभी तक सरकारी दफतरों में कर्मचारियों की मौजूदगी को लेकर 50 फीसदी का नियम लागू था. मगर अब सभी कर्मचारियों को ड्यूटी पर आना होगा. राज्य सरकार के फैसले के अनुसार, सिर्फ गर्भवती महिलाओं और विकलांग कर्मचारियों को ही दफ्तर में आने से छूट दी जाएगी. 

इस मामले में राज्य के मुख्य सचिव ने आदेश जारी किया है. दरअसल, सूबे में कोरोना के मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है. जिसके बाद अब राज्य सरकार ने सभी कर्मचारियों को दफ्तर बुलाने का आदेश दिया है. जबकि अभी तक दिन में 50 फीसदी कर्मचारियों को ही कार्यालय में बुलाया जा रहा था. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राज्य सरकार ने मंगलवार को इसको लेकर नए आदेश जारी किए हैं और मंगलवार को मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र की तरफ से आदेश जारी कर वर्फ फ्रॉम होम की व्यवस्था को समाप्त कर दिया है.

दरअसल, 13 जनवरी को आदेश जारी किए गए थे कि ग्रुप बी, ग्रुप सी और ग्रुप डी के 50 फीसदी कर्मियों को ऑफिस और 50 फीसद कर्मचारियों को घर से काम कराया जाए. ताकि कार्यालय में अधिक भीड़ ना हो. क्योंकि राज्य में लगातार कोरोना के मामलों में वृध्दि हो रही था.

75 वर्षों में पहली बार PIA की विशेष फ्लाइट से भारत आएँगे पाकिस्तानी श्रद्धालु

मैं हिंदूस्तानी हूं, मैं हिंदू हूँ, सेक्यूलर होना सरकार का काम है: मनोज मुंतशिर

आंध्र प्रदेश में बनाए जाएंगे 13 नए जिले, जगन रेड्डी सरकार ने दी मंजूरी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -