यहां लोग शादी के लिए जिन्दा नहीं बल्कि मरा हुआ दूल्हा ढूंढ़ते हैं

हमारे देश में शादी को लेकर कई तरह की परम्पराएं बनाई गयी है.सिर्फ हमारे ही देख में नहीं बल्कि हर देश में उनकी अलग परम्परा होती है जिन्हें वो निभाते भी हैं.  शादी हमेशा रीती रिवाजो से ही होती आई है.शादी में कई तरह के रीती रिवाज निभाए जाते है.ये बात भी जानते हैं आप कि शादी हमेशा जिन्दा लोगो की होती है कभी मरे हुए लोगों की नहीं होती. लेकिन हमारे देश में एक जगह ऐसी भी है जहां जिंदा नहीं बल्कि मृत लोगों की शादी की जाती है.जी हां, यह बिल्कुल सच है.आइये बता देते हैं उसके बारे में. 

दरअसल, जहां मरे हुए लोगों की शादी होती हैवो जगह उत्तर प्रदेश. जी हाँ, यहां के सहारनपुर जिले में ऐसी अनोखी शादियां रचाई जाती हैं.जो मरे हुए लोग के बीच होती है. यहां मरने के बाद बारात आती है और पूरे रीति रिवाजों के साथ शादी होती है.आपको बता दें, यहां नटबाजी समाज में परम्परा है जिसके तहत जीवित बच्चों की नहीं बल्कि उनके मरने के बाद धूमधाम से शादी की जाती है.यह परम्परा सालों से चली आ रही है। 

इसके अलावा हाल ही में मीरपुर में एक शख्स ने अपनी बेटी की शादी रचाई जिसकी करीब 18 साल पहले मौत हो गई थी.उन्होंने अपनी मृतक बेटी के लिए मृतक दूल्हा भी ढूंढ़ा.इस शादी में दूल्हा-दुल्हन की जगह प्रतीकात्मक रूप के लिए गुड्डा-गुडिय़ा रखे जाते है.और फिर पूरे रीति रिवाजों के साथ धूमधाम से शादी रचाई जाती है.वाकई बहुत ही अजीब परंपरा है ये जो कही नहीं सुनी होगी.

ये लेडी डॉक्टर कपड़े उतार कर मरीजों के साथ करती है ये काम

इस बार ओनर की अलग ही है कहानी, ग्राहक हो जाते हैं परेशान

इस मंदिर में माता को भेंट में दी जाती है चप्पलें, ये है कारण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -