45 दिन से लॉक डाउन में फंसी है बरात, दुल्हन को लेकर घर नहीं लौट पा रहा दूल्हा

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर के एक लड़के ने बिहार के बेगुसराय की एक लड़की से निकाह किया और इसके बाद लगभग डेढ़ महीने बीत गए, लेकिन वह अपनी पत्नी को लेकर अपने घर वापस नहीं आ सका. देश भर में जारी लॉकडाउन फिलहाल अपने तीसरे चरण में है, जिसके कारण दूल्हा, बारातियों के साथ बिहार में अपने ससुराल में ही फंसा हुआ है.

कोरोना महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन और बंदिशों के चलते दूल्हा व बाराती सभी लगभग 45 दिन से लड़की वालों के यहां रह रहे हैं. ऐसे में लड़की के परिवारवालों पर भी अब इतने लोगों के देखभाल का बोझ बढ़ता ही जा रहा है. कानपुर के चौबेपुर गांव के रहने वाले इम्तियाज ने 21 मार्च को बेगुसराय के खुशबू से निकाह किया था. इसके ठीक एक दिन बाद यानि कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की घोषणा की गई और इसके बाद लॉकडाउन लागू हो गया, जिसके चलते 12 बारातियों समेत दूल्हा अपने घर को नहीं लौट सका.

दूल्हे की बहन आफरीन ने बताया कि, 'बारात अभी तक नहीं लौटी है और हम लोग बेहद परेशान हैं. हम समझ सकते हैं कि, दुल्हन के परिवार के लिए इतने दिनों तक इतने सारे लोगों को खाना खिलाना कितना कठिन हो रहा होगा.' इम्तियाज ने कहा कि उसने स्थानीय अधिकारियों के पास अपना नाम लिखवा दिया है और दुल्हन के साथ अब अपने घर लौटना चाह रहा है.

Indigo : कंपनी ने कर्मचारियों को वेतन के मामले में दिया तगड़ा झटका

रतन टाटा ने इस छोटे से स्टार्टअप में किया निवेश

व्हाइट हाउस में गूंजे वेद मंत्र, कोरोना से मुक्ति के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प ने कराया 'शांति पाठ'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -