जानिए चन्दन के उपयोग और इसके लाभ

चंदन का महत्व : चन्दन एक खास तरह की सुगन्धित लकड़ी है जिसका उपयोग मूर्तिकला, साज-सज्जा के सामान, सुगन्धित पदार्थ आदि बनाने में होता है .चन्दन दो प्रकार के होते हैं – लाल और सफेद. हिन्दू धर्म में चन्दन को बहुत पवित्र माना गया है. पूजा के हर कार्य में चन्दन की लकड़ी, चन्दन का लेप और चन्दन के इत्र का प्रयोग किया जाता है . श्री हरि  को सफेद चन्दन का लेप लगाना उत्तम माना गया है , जबकि देवी की पूजा में लाल चन्दन का उपयोग किया जाता है.ग्रहों की समस्या के समाधानमें भी चन्दन का प्रयोग किया जाता है.

चंदन औषधि : चन्दन से आयुर्वेद औषधियां भी बनाई जाती है. चन्दन के चूर्ण को कुछ विशेष तरह के पदार्थों में मिलाकर आयुवृद्धि की औषधियां बनाई जाती हैं. इसके अलावा ह्रदय रोग, त्वचा के रोग और मानसिक रोगों में भी चन्दन के तेलों का खूब प्रयोग किया जाता है , क्योंकि चंदन की तासीर ठंडी रहती है.

चंदन तिलक के नियम और लाभ : चन्दन की लकड़ी को पत्थर पर अच्छी तरह घिस कर निकालें .अब अपने इष्ट को अनामिका अंगुली से तिलक लगाएं और फिर खुद के मस्तक, कंठ और नाभि पर तिलक लगाएं.चन्दन के असली इत्र को रोजाना नहाने के बाद दोनों हाथों की कलाइयों पर लगाना शुभ माना गया है . इसी तरह चन्दन का एक छोटा सा टुकड़ा लें और फिर इसे नीले कपडे में रखकर लॉकेट की तरह बना लें फिर शनिवार की शाम को इसे लाल धागे में लपेटकर गले में धारण करने से बहुत लाभ होता है और प्रगति होती है.

यह भी देखें 

गुरुवार को इन चार कामों से बचें

इस व्रत को रखने से रिश्ते और परिवार का होता है सर्वनाश

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -