अमेरिका ने की सुरक्षा परिषद् में भारत की स्थायी सदस्यता की पैरवी

वॉशिंगटन : भारत की संयुक्त राष्ट्र महासभा की सुरक्षा परिषद् में स्थायी सदस्यता को लेकर प्रतिनिधि सभा में प्रस्ताव पेश किया गया है। सांसदों का कहना है कि भारत को स्थायी सदस्यता मिलने से दुनियाभर में लोकतंत्र को मजबूती मिलेगी। बता दें कि अमेरिकी संसद ने पहले ही भारत को विशेष दर्जा दिए जाने वाले प्रस्ताव को खारिज कर दिया है।

भारत से जुड़े संसदीय कॉकश के सह-संस्थापक फ्रैंक पेलोन और एकमात्र भारतवंशी सांसद एमी बेरा ने बुधवार को यह प्रस्ताव पेश किया। इसके पारित होने से ओबामा प्रशासन के लिए किसी भी तरह की कानूनी बाधा उत्पन्न नहीं होगी। यह केवल भारत के प्रति अमेरिकी सांसदों की भावनाओं व समर्थन की पुष्टि करेगा। बता दें कि अमेरिकी सरकार ने स्थायी सदसय्ता के लिए केवल भारत का ही समर्थन किया है।

पेलोन ने कहा कि ऐसे समय में जब अंतरराष्ट्रीय संबंध फिर से परिभाषित किए जा रहे हैं, अमेरिका को ऐसे देशों को मान्यता देते हुए उन्हें सशक्त करना चाहिए जो हमारे मूल्यों को साझा करते हैं। बहुलतावाद और लोकतंत्र वाली सुरक्षा परिषद के सदस्य अमेरिका के हित में होंगे। इस मौके पर एमी ने कहा कि भारत को सुरक्षा परिषद् में स्थायी सदस्यता देने से दुनियाभर में लोकतंत्र को मजबूती मिलेगी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -