UPTET पेपर लीक में एक और बड़ी चूक! अनुभवहीन कंपनी को दिया प्रश्नपत्र प्रिंटिंग का ठेका

लखनऊ: UPTET पेपर लीक में एक और बड़ी चूक सामने आई है। खबर के अनुसार, सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी रहते संजय उपाध्याय ने बगैर तहकीकात के ही परीक्षा मानकों को पूरा न करने वाली कंपनी को प्रश्नपत्र प्रिंटिंग का ठेका दे दिया था। ऐसे में ठेका लेने के पश्चात् कंपनी ने चार अन्य प्रिंटिंग प्रेस से टीईटी के पेपर छपवाए। बता दे कि उत्तर प्रदेश में पिछले रविवार मतलब 28 नवंबर को UP TET परीक्षा आयोजित की गई थी। मगर इसका पेपर लीक हो गया था। ऐसे में परीक्षा कैंसिल कर दी गई थी। इस मामले में उत्तर प्रदेश एसटीएफ तहकीकात कर रही है। 

वही UPTET परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए तकरीबन 13 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। जानकारी के अनुसार, मथुरा, गाजियाबाद, बुलंदशहर के व्हाट्सएप ग्रुप पर पेपर लीक किया गया था। तत्पश्चात, सीएम योगी आदित्यनाथ ने परीक्षा को एक महीने के अंदर करवाने का निर्देश दिया था, जिसके पश्चात् कहा गया था कि जल्द ही दिनांकों की घोषणा होगी।
दोबारा परीक्षा की नहीं देनी होगी फीस

वही UPTET पेपर लीक मामले में उत्तर प्रदेश एसटीएफ तहकीकात कर रही है। अब तक इस मामले में 29 से अधिक व्यक्तियों लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। ये गिरफ्तारियां यूपी के अलग अलग शहरों से हुई हैं। 20 से ज्यादा संदिग्धों से हिरासत में पूछताछ की जा रही है, मगर इस पूरी कवायद के पश्चात् भी स्पष्ट नहीं हो पाया कि आखिर राज्य की सबसे बड़ी परीक्षा का पेपर कैसे लीक हो गया। सॉल्वर गैंग को पेपर रविवार रात 12:05 पर प्राप्त हो चुका था। 

IPL Auction: पंजाब किंग्स के लिए नहीं खेलेंगे राहुल ? नेस वाडिया बोले- ये BCCI के नियमों के खिलाफ

छात्र नेता को मौत के घाट उतारने वाला आरोपी हुआ हादसे का शिकार

COVID महामारी ने उत्पादन को केंद्रीकृत करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला: जेपी नड्डा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -