राज्यसभा में जेटली के इस्तीफे को लेकर मचा हाहाकार, सरकार ने किया इंकार

राज्यसभा में जेटली के इस्तीफे को लेकर मचा हाहाकार, सरकार ने किया इंकार
Share:

नई दिल्ली : दिल्ली एवं जिला क्रिकेट एसोसिएशन में वित मंत्री अरुण जेटली की कथित रुप से भ्रष्टाचार में संलिप्तता के आरोपों के बाद विपक्षियों ने जेटली के इस्तीफे की मांग की है। जिसे बीजेपी ने साफ नकार दिया है। अरुण जेटली ने भी विपक्षियों द्वारा इस्तीफा मांगे जाने पर उन पर जमकर बरसे और कहा कि 114 करोड़ की लागत से 42 हजार लोगो के बैठने की क्षमता वाले स्टेडियम का निर्माण कराया गया।

जेटली ने कहा कि जब कांग्रेस सत्ता में थी तब जवाहर लाल नेहरु स्टेडियम का जीर्णोद्धार 900 करोड़ रुपए में कराया गया था। मेरे उपर लगाए गए सभी आरोप निराधार है और सच्चाई से कोसों दूर है। इसके बावजूद भी कांग्रेस सांसदों का हंगामा जारी रहा। दूसरी ओर बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की। आजाद ने कहा कि Serious Fraud Investigation Office की जांच सिविल नेचर की है, लेकिन हमारी सरकार सीबीआई के जरिए इसके आपराधिक पहलु की जांच करा रही है।

कांग्रेसियों के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही बार-बार बाधित हुई। दो बार के स्थगन के बाद कार्यवाही को 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। जेटली ने कहा कि वे सारे आरोपों का जवाब देने के लिए तैयार है। जेटली 1997 से लेकर 2013 तक डीडीसीए के प्रमुख थे। बैठक की शुरुआत में ही विपक्षियों ने इस्तीफे की मांग की और जेटली के खिलाफ नारेबाजी की। इस पर मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि गलत आरोपों पर इस्तीफा नही दिया जाएगा।

कांग्रेस के कई सांसद पोस्टर भी लहराते नजर आए। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जेटली अपने पद पर नही बने रह सकते। इस मुद्दे पर व्यापक चर्चा की जानी चाहिए।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -