जनधन से पहले UPA ने खोले थे 24 करोड़ फ्रिल अकाउंट : चिदंबरम

जनधन से पहले UPA ने खोले थे 24 करोड़ फ्रिल अकाउंट : चिदंबरम

नई दिल्ली : जिस तरह के जीरो बैलेंस खातों को खोले जाने की बात केंद्र सरकार कर रही है उसकी नींव तो यूपीए के कार्यकाल में ही रख दी गई थी। इस मामले में यह जानकारी सामने आई है कि यूपीए ने करीब 24 करोड़ बैंक खाते पहले ही खोल दिए थे। जिन्हें फ्रिल बैंक खातों का नाम दिया गया। यूपीए सरकार जनधन योजना की प्रणेता थी। इस तरह की जानकारी हाल ही में पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने दी। मिली जानकारी के अनुसार पूर्व वित्तमंत्री चिदंबरम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वाराणसी की यात्रा के दौरान कांग्रेस पर की गई टिप्पणी पर पलटवार किया गया। इस दौरान यह बात सामने आई कि केंद्र सरकार ने जो जनधन योजना प्रारंभ की है उसे पूर्ववर्ती सरकार स्वाभिमान योजना के तौर पर चला रही थी।

सरकार ने इसे जनधन का नाम देकर प्रचारित किया। शकील अहमद द्वारा कहा गया कि वर्तमान सरकार योजनाओं का नाम बदलने में माहिर हो गई है। यही नहीं मोदी अपनी असफलताओं को सामने नहीं लाए। स्वच्छ भारत अभियान की तो पोल ही खुलती रही है। दिल्ली में सफाई की हालत बदहाल है। केंद्र में तो सरकार की ही जवाबदारी है आखिर क्या राजधानी को साफ बनाने के लिए केंद्र सरकार राज्य सरकार से सहयोग नहीं कर सकती। यही नहीं यह सोचना होगा कि मराठवाड़ा के किसान क्यों मरे। इन सभी का उत्तर खोजा जाए तो एनडीए सरकार की असफलता सामने आ जाएगी।