संतो ने भरी हुंकार, बोले- 'अगर राम मंदिर चाहते हैं तो मोदी-योगी की जोड़ी को रखें बरकरार'

लखनऊ: यूपी के विधानसभा चुनाव को लेकर जहां एक तरफ चुनाव आयोग एक्शन में है। तो वहीं दूसरी ओर संत समाज एकबार फिर योगी आदित्यनाथ की सरकार बनाने की तैयारी कर रहा है। इस के चलते संत समाज बाकायदा मंच से माइक साउंड तथा मीटिंग करके योगी सरकार के कार्यों को गिनाकर संतो का मत योगी आदित्यनाथ की झोली में डालने के लिए आग्रह कर रहा है। ऐसे में धर्मनगरी चित्रकूट के रामायणी कुटी में विश्व हिन्दू परिषद के बैनर तले एक चिंतन बैठक बुलाई गई। जिसमे धर्मनगरी चित्रकूट के दिग्गज संत महात्माओं समेत अयोध्या न्यास के महामंत्री चम्पत राय शामिल हुए।

दरअसल, धर्मनगरी चित्रकूट में हुई इस चिंतन बैठक में संतो ने योगी सरकार के कार्यों के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि यदि संत समाज की भलाई, मठ मंदिरों की सुरक्षा तथा उद्धार चाहते हैं तो एक बार फिर योगी सरकार को लाना होगा, भिन्न-भिन्न संतो ने सैकड़ो संतो की उपस्थिति में राम के नाम पर हवाला देते हुए बताया कि मोदी एवं योगी सरकार के कारण ही आज अयोध्या राम मंदिर अपने रूप में आने को तैयार है, यदि आप सभी चाहते हैं कि अयोध्या में राम मंदिर बनकर तैयार हो तो हमें योगी सरकार को फिर लाना होगा तभी रामलला को उनकी जगह पर विराजमान करवा पाएंगे।

आपको बता दें कि चित्रकूट में विश्व हिन्दू परिषद कानपुर प्रांत के धर्माचार्य संपर्क विभाग की हुई इस मीटिंग में खूब हिन्दू मुस्लिम के मसले में धार देते हुए चुनावी माहौल बनाया गया। जहां पर काशी विश्वनाथ के जितेंद्र नन्द सरस्वती ने बताया कि यदि होली मनानी है तथा राम मंदिर का निर्माण होने देना चाहते हैं तो केंद्र तथा राज्य की जोड़ी बनाये रखिए। जहां एक तरफ राज्य में योगी आदित्यनाथ तथा केंद्र में नरेंद्र मोदी की जोड़ी को उन्होंने राम लक्ष्मण की उपाधि देते हुए बोला कि 2015 को शुक्रवार को होली का पर्व पड़ा था। वहीं, समाजवादी पार्टी की सरकार थी जिसमे सरकार ने घोषणा की थी कि 11 बजे तक होली खेली जाएगी फिर मुसलमानो को जुमे की नमाज़ है तो होली खेलना बंद कर दे। वही चुनावों को लेकर राज्यों में पार्टियों के बीच जमकर जंग छिड़ी हुई है। 

यूपी चुनाव में पीएम मोदी ने खुद संभाला मोर्चा, टिकट बंटवारे पर बैठक में हुए शामिल

यूपी चुनाव: क्या अयोध्या में 'मोदी की काशी' जैसा करिश्मा कर पाएंगे योगी आदित्यनाथ ?

फर्म में निवेशकों को गुमराह करने के आरोप में इस कंपनी के संस्थापक को 26 सितंबर को होगी जेल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -