सरकार व संगठन में समायोजित होगी भाजपा कार्यकर्त्ता की मंडलियां

सरकार व संगठन में समायोजित होगी भाजपा कार्यकर्त्ता की मंडलियां

विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही भजपा ने अपनी चुनावी तैयारी को और भी तेजी प्रदान कर दी है। जिसके लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को गवर्नमेंट से लेकर संगठन तक विभिन्न पदों पर समायोजित कर संतुष्ट करने की तैयारी की जा रही है। कार्यकर्ताओं को राज्य अल्पसंख्यक आयोग, अनुसूचित जाति आयोग, अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग सहित अन्य आयोगों, निगमों, बोर्डों और समितियों में नियुक्त किया जा रहा है।

वहीं, संगठन में भी अग्रिम मोर्चों, प्रकोष्ठों और प्रकल्प में मंडल स्तर तक नियुक्तियां की जाने वाली है। जंहा यह भी कहा जा रहा है कि सब कुछ सही तरीके से चला तो चुनावी तैयारी के पहले चरण में जुलाई तक संगठन और गवर्नमेंट में विभिन्न पदों पर तकरीबन 100000 से अधिक कार्यकर्ताओं को समायोजित करने की तैयारियों में जुटे हुए है। प्रमुख आयोगों में अध्यक्ष पदों पर नियुक्ति के लिए दावेदारों के नाम पर गवर्नमेंट और संगठन के प्रमुख लोगों के मध्य मंथन किया जा चुका है। चुनाव के मद्देनजर जातीय और क्षेत्रीय संतुलन का संदेश देने के लिए अपने जाति-समाज में प्रभाव रखने वाले लोगों की इन पदों पर नियुक्तियां दी जाने वाली है। इसी प्रकार विभिन्न निगमों, बोर्डों, समितियों, निकायों में भी स्थानीय जातीय समीकरण के हिसाब से नियुक्तियां की जा सकती है।

मिली जानकारी के अनुसार संगठन में भी महिला मोर्चा, युवा मोर्चा, किसान मोर्चा, ओबीसी मोर्चा, एससी मोर्चा, एसटी मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा जैसे प्रमुख मोर्चों, मीडिया विभाग, मीडिया संपर्क विभाग सहित अन्य विभागों व प्रकोष्ठ में प्रदेश, क्षेत्रीय, जिला और मंडल स्तर तक नई टीमों का गठन भी हो सकता है।  हाल ही में पार्टी का पद छोड़कर पंचायत चुनाव लड़ने वाले पदाधिकारियों के स्थान पर भी नए कार्यकर्ताओं की नियुक्तियां की जानें वाली है। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के मुताबिक गवर्नमेंट और संगठन में सभी रिक्त पदों पर नियुक्तियों के बाद करीब 100000 से अधिक कार्यकर्ताओं का समायोजन हो जाएगा।

अब तक 17 हजार कार्यकर्ता समायोजित: हम बता दें कि प्रदेश गवर्नमेंट और संगठन में अब तक 17 हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं का समायोजन कर चुके है। पार्टी का दावा है कि जिसके पहले कभी इतनी बड़ी संख्या में समायोजन नहीं हो पाया है।

'जब कोरोना में चुनाव हो सकते हैं तो जनगणना क्यों नहीं ?' केंद्र से जीतनराम मांझी का सवाल

अभियोजक ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार कीको फुजीमोरी के नए निवारक निरोध का किया अनुरोध

पीएम मोदी से मुलाकात कर बेहद खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बात