यूनीफाइड पेमेंट सिस्टम बन रहा मोबाइल वॉलेट के लिए परेशानी

नई दिल्ली : रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के द्वारा यूनीफाइड पेमेंट सिस्टम पर लगातार जोर दिया जा रहा है. इसको देखते हुए यह भी सुनने में आ रहा है जल्द ही मोबाइल वॉलेट का महत्व भी खत्म होने वाला है. इस बारे में सेंट्रम ब्रोकिंग द्वारा रिपोर्ट जारी कर ये जानकारी पेश की गई है. बताया जा रहा है कि फरवरी माह के दौरान मोबाइल बैंकिंग में बीते वर्ष के मुकाबले 3 गुना तेजी देखी गई है.

साथ ही यह भी सुनने को मिल रहा है कि यूनीफाइड पेमेंट सिस्टम लागू होने से SBI का बड्डी, ICICI बैंक का पॉकेट, HDFC बैंक का चिल्लर और पेटीएम का यूज़ कम हो जाना है. इसके साथ ही यह भी बता दे कि फरवरी 2016 में मोबाइल बैंकिंग को फरवरी 2015 के मुकाबले वैल्यू टर्म के मामले में 212 फीसदी बढ़ोतरी के साथ देखा गया है. जबकि साथ ही यह भी देखने को मिला है कि वॉल्यूम के मामले यह तेजी 131 फीसदी रही है.

इस रिपोर्ट के माध्यम से यह जानकारी भी सामने आई है कि कैश ट्रांजैक्शन को कम करने के लिए RBI के द्वारा यूपीआई का यूज़ करने पर अधिक जोर दिया जा रहा है. जिसके कारण मोबाइल वॉलेट्स पर गज गिरने का अंदेशा लगाया जा रहा है. बता दे कि सिस्टम में जारी कैश को जीडीपी का 18 फीसदी बयय गया है. यह देश की इकोनॉमी को कैश डिपेंडेंट बनाता है. गौरतलब है कि रिज़र्व बैंक कैश पर निर्भरता को खत्म करने को लेकर यह कदम उठा रहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -