बड़नगर में एक ही परिवार के छह लोगों की हुई मौत

मध्य प्रदेश के बड़नगर के व्यापारी और चिकित्सक परिवार के कुछ लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद हड़कंप सा मच गया है. यह वही परिवार है, जिनके यहां बीते 25 दिनों में छह मौतें हो गई हैं. संदिग्ध हालात में मौत को देखते हुए चार मृतकों सहित परिवार के कुछ और लोगों के सैंपल लिए गए थे. गुरुवार देर रात दो मृतकों सहित परिवार के ही दो अन्य लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसके बाद शहरवासी सकते में आ गए. परिवार के 25 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है. साथ ही सैंपल भी लिए गए हैं. स्वजनों की मांग है कि उनकी रिपोर्ट जल्दी आए और इसका इलाज मिले. परिवार में पहली मौत 30 मार्च को हुई थी. हजारीबाग रोड, बड़नगर निवासी 69 वर्षीय रमेशचंद्र वेद बाथरूम से बाहर निकले और गिर पड़े. इस वजह से उनकी मौत हो गई. 15 साल पहले उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी. इसके बाद 8 अप्रैल को 42 वर्षीय बेटे निलेश की भी संदिग्ध हालात में मौत हुई थी.

इस बारें में डॉक्टरों ने बताया कि निलेश को डेंगू था. 20 अप्रैल को रमेशचंद्र वेद के चचेरे भाई व चिकित्सक 72 वर्षीय डॉ. पुष्पेंद्र वेद की भी मौत हो गई. स्वजन अंतिम संस्कार कर लौटे ही थे कि रमेशचंद्र के 65 वर्षीय भाई राजकुमार वेद को भी घबराहट हुई है. उन्हें डॉक्टर के पास ले जाने तक उनकी मौत हो चुकी थी. स्वास्थ्य अमले ने परिवार के लोगों की स्क्रीनिंग की थी, मगर उस वक्त कोई लक्षण नहीं दिखे थे. इसके बाद डॉ पुष्पेंद्र और राजकुमार वेद की मौत ने सभी को चिंतित कर दिया. मृतक राजकुमार, कुसुम और अरविंद का सैंपल लिया गया था. इनमें से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

जानकारी के लिए बता दें की संक्रमण की पुष्टि के बाद 25 स्वजनों के सैंपल लिए गए हैं. सभी को क्वारंटाइन किया गया है. परिवार का कहना है कि अगर रिपोर्ट जल्द मिले तो ठीक होगा. पूरा परिवार दहशत में है. ऐसे में प्रशासन से अपील है कि वह जल्द रिपोर्ट मंगवाने और फिर इलाज की व्यवस्था करे.

कोरोना संकट में बड़ी खुशखबरी, महिलाओं को मिलेगा बिना ब्याज का लोन

माँ के देहांत के बाद परिवार को फोन पर मिला क्वारंटीन का निर्देश

टेस्टिंग को लेकर इंदौर को मिली राहत, तीन हजार किट हुई उपलब्ध

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -