कुंभ की नगरी उज्जैन में जय महाकाल...जय शिप्रा मॉं

उज्जैन: कुंभ की नगरी उज्जैन में रविवार को सिंहस्थ के पर्व स्नान का उल्लास छाया। शनिवार-रविवार की दरमियानी रात से ही लाखों की संख्या में आस्थावान शिप्रा स्नान के लिए उज्जैन पहुंचने लगे थे। जय महाकाल-जय शिप्रा मॉं का उद्घोष करते हुए आस्थावानों से शिप्रा स्नान का पुण्य लाभ प्राप्त किया।

रविवार को सिंहस्थ के अवसर पर वृषभ संक्रांति का पर्व स्नान था और इस अवसर पर करीब बीस लाख से अधिक श्रद्धालु स्नान करने के लिए उज्जैन पहुंचे। यूं तो एक दिन पहले से ही श्रद्धालुओं के उज्जैन पहुंचने का सिलसिला जारी हो गया था लेकिन रविवार की सुबह से सिंहस्थ क्षेत्र और शिप्रा के घाटों पर पैर रखने की भी जगह नहीं बची हुई थी। धैर्य का परिचय देते हुए आस्थावानों का रैला शिप्रा तट पर पहुंचता रहा और शिप्रा स्नान करते रहे। शहर के रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन पर भी लोगों की भीड़ जमा थी तो वहीं होटलें, लॉज व धर्मशालाएं भी हाउसफूल दिखाई दी। 

बीस लाख से अधिक श्रद्धालु प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार रविवार को हुए पर्व स्नान के अवसर पर बीस लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने स्नान दर्शन का लाभ उज्जैन में पहुंचकर लिया। शनिवार से ही लोग उज्जैन आने लगे थे तथा शिप्रा स्नान का सिलसिला शनिवार की शाम से ही प्रारंभ हो गया था। रविवार की सुबह तो शिप्रा के सभी घाटों पर पैर रखने की भी जगह नहीं बची थी। पर्व स्नान के दौरान पुलिस व जिला प्रशासन ने माकूल प्रबंध किए थे।

नहीं होता बारह वर्षों का इंतजार....

उज्जैन में सिंहस्थ बारह वर्षों में आयोजित होता है, लेकिन लगता है कि लोग अब अगले बारह वर्षों का इंतजार ही करना नहीं चाहते है और यही कारण है कि शहर में हर दिन ही श्रद्धालुआें का तांता लगा हुआ है। श्रद्धालुओं का कहना है कि बारह वर्ष किसने देखे...इसलिए जितना भी पुण्य लाभ प्राप्त कर लिया जाए, करने का प्रयास किया जा रहा है। वैसे तो अमुमन दोपहर के समय श्रद्धालुओं की भीड़ कम दिखाई देती है लेकिन शाम होते ही सिंहस्थ मेला क्षेत्रों में भीड़ हो जाती है और वाहनों के आवागमन से जाम की स्थिति हर दिन ही निर्मित हो रही है।

17 को मोहिनी एकादशी का स्नान...

17 मई को मोहिनी एकादशी का पर्व स्नान होगा और इसके बाद फिर 21 मई को अंतिम व प्रमुख शाही स्नान संपन्न किया जाएगा। मोहिनी एकादशी के पर्व स्नान पर भी श्रद्धालुओं की भीड़ जुटेगी। इधर पुलिस व जिला प्रशासन ने आगामी पर्व स्नान व शाही स्नान को देखते हुए भीड़ प्रबंध की योजना को अमली जमा पहनाना भी शुरू कर दिया है।

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -