नाले में उतरा संत समाज

Feb 15 2016 06:43 PM
नाले में उतरा संत समाज

उज्जैन : उज्जैन सिंहस्थ सिर पर है व अभी भी पतित पावनी शिप्रा में नालो का पानी मिल रहा है यह बात कही है महामंडलेश्वर कम्प्यूटर बाबा ने. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक महामंडलेश्वर कम्प्यूटर बाबा व अन्य संतों ने रविवार को उज्जैन में जल सत्याग्रह करते हुए यह बात दोहराई. बता दे कि कम्प्यूटर बाबा व अन्य साधु संत उज्जैन रणजीत हनुमान मंदिर के पास शिप्रा में मिल रहे भंडारिया खाल नाले में उतर गए व प्रशासन के प्रति अपना आक्रोश व्यक्त किया. 

यह सभी संत करीब 1 घंटे तक इसी नाले में खड़े रहे। बाद में उज्जैन नगर निगम के उपायुक्त वहां पर पहुंचे व षडदर्शन साधु समाज के प्रदेश अध्यक्ष कम्प्यूटर बाबा, महंत नृसिंह दास, महंत रामजी बाबा, महंत राघवदास, महंत सत्यमदास एवं महंत प्रहलाद दास के साथ इस मामले में चर्चा की। इस चर्चा के दौरान कंप्यूटर बाबा ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि प्रशासन का दावा पूरी तरह से झूठा व गलत है.

बाबा ने कहा कि शिप्रा में अभी-भी नाले मिल रहे हैं। इस पर उज्जैन प्रशासन का तर्क है कि यह सभी संत जिस नाले पर खड़े थे उसका पानी फसल की सिंचाई के लिए प्रयुक्त में लाया जाता है तथा वह छोड़ा गया पानी था. प्रशासन ने कहा कि शिप्रा में अब किसी भी स्थान पर नाले का पानी बिलकुल भी नहीं मिल रहा है.