कन्हैयालाल हत्याकांड को लेकर हुआ हैरतंअगेज खुलासा, जांच में सामने आई ये बड़ी बात

उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल हत्या कांड की तहकीकात में बड़ा खुलासा हुआ है। उदयपुर के 2 मौलानाओं रियासत हुसैन एवं अब्दुल रज्जाक ने दावत-ए-इस्लामी की ट्रेनिंग के लिए हत्याकांड के अपराधी मुहम्मद गौस को पाकिस्तान भेजा था। गौस के साथ वसीम अत्तारी एवं अख़्तर रजा भी पाकिस्तान गया था। NIA ने इन तीनों को गिरफ्त में लिया है। सूत्रों के मुताबिक, हत्याकांड के षड्यंत्र में दो मौलाना एवं दो अधिवक्ता भी सम्मिलित हैं, उन्हें भी गिरफ्त में लिया गया है। कहा जा रहा है कि अपराधियों की एक बैठक हुई थी जिसमें रियाज अत्तारी ने टेलर कन्हैयालाल को मारने की ज़िम्मेदारी ली थी।

वही इस बैठक में रियाज, मोहम्मद गौस, आसिफ एवं मोहसिन सम्मिलित थे। कन्हैयालाल की शॉप से सिर्फ 500 दूर ही मोहसिन की शॉप एवं पड़ोस में आसिफ के कमरे पर क़त्ल का षड्यंत्र रचा गया था। टेलर कन्हैयालाल के क़त्ल के मामले में चारों अपराधियों को शनिवार को NIA कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने क़त्ल में सम्मिलित 2 अपराधियों रियाज, मोहम्मद गौस को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। दोनों अपराधियों ने ही हत्या कर वीडियो साझा किया था। तत्पश्चात, राजस्थान ATS ने शुक्रवार को दो अन्य अपराधियों मोहसिन एवं आसिफ को गिरफ्तार किया था।

रियाज ने आसिफ और मोहसिन को रेडक्लाइज करके इस घटना में साथ देने के लिए तैयार किया था। आसिफ एवं मोहसिन कन्हैया लाल के क़त्ल की योजना से लेकर हथियार बनाने तक में सम्मिलित रहे। कन्हैया लाल की दुकान जिस गली में थी, उस गली में पहले से रियाज और मोहम्मद गौस का आना जाना था। उदयपुर में जब विवादित बयान पर कुछ लोग समर्थन करने लगे तभी रियाज एवं मोहमद गौस ने तय कर लिया था की कुछ बड़ा करना है। कन्हैया सरल शिकार लगे तथा चूंकि पहले से रियाज एवं मोहम्मद गौस कन्हैया की दुकान के पास आते जाते रहते थे तथा उस गली से वाकिफ थे तो हत्याकांड को अंजाम दिया।

IAS अतहर आमिर करने जा रहे हैं दूसरी शादी, जानिए कौन है वो हसीना

उदयपुर हत्याकांड: कन्हैया के कातिलों को भीड़ ने भरी कोर्ट में पीटा, देखें Video

'ये बुमराह हैं, या युवराज सिंह...', जसप्रीत की तूफानी बैटिंग देख दंग रह गए सचिन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -