मालेगांव ब्लास्ट मामले में बड़ा खुलासा : आरोपी फरार नहीं, मार गिराया था

मालेगांव :  मालेगांव धमाके मामले की सुनवाई के दौरान उस वक्त नया मोड़ आ गया जब एक निलंबित पुलिस अधिकारी ने यह बताया कि मामले से जुड़े जिन दो आरोपियों को फरार बताया जा रहा है वे फरार नहीं बल्कि एटीएस के हाथों पहले ही मारे जा चुके है। पुलिस अधिकारी का यह भी दावा है कि दोनों के शवों को अन्य शवों के साथ दफनाने से भी एटीएस अधिकारियों ने गुरेज नहीं किया था।

गौरतलब है कि मालेगांव में 2008 के दौरान धमाका हुआ था और इसमें कई लोग मारे गये थे। सोलापुर कोर्ट में हलफनामा दाखिल करते हुये निलंबित पुलिस इस्पेक्टर महबूब मुजावर ने यह बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कोर्ट को बताया कि धमाके मामले के दो आरोपी संदीप डांगे और रामजी कलसंग्रा को अभी भी फरार बताया जा रहा है, जबकि महाराष्ट्र एटीएस टीम ने इन दोनों को वर्ष 2008 में ही मार दिया था।

आरोप लगाया गया है कि एटीएस ने मामले को दबाने के लिये शवों को 26-11 हमले में मारे गये लोगों के शवों के साथ ही दफना दिया। हलफनामे में निलंबित पुलिस अधिकारी ने यह भी दावा किया है कि दोनों आरोपियों को मार गिराने के बाद एटीएस ने इन्हें फरार करार दे दिया। बताया गया है कि जिस पुलिस इंस्पेक्टर ने हलफनामा पेश करते हुये मामले में खुलासा किया है उन्हें आय से अधिक संपत्ति के एक मामले में निलंबित कर दिया गया था, इसके पहले वे मामले की जांच के हिस्से थे।

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की मालेगांव धमाके के आरोपी की याचिका

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -