रक्षाबंधन के पहले भाई-बहन की हत्या कर जंगल में फेंकी लाश, पास में बिलख रहा था बेटा

Aug 29 2015 02:05 AM
रक्षाबंधन के पहले भाई-बहन की हत्या कर जंगल में फेंकी लाश, पास में बिलख रहा था बेटा

ग्वालियर। मुरार के देहात इलाके के जंगल में एक महिला व पुरूष की लाश मिली हैं। बताया जा रहा है की दोनों भाई-बहन थे औऱ भिंड के अमायन निवासी हैं। बहन का 7 साल का बेटा घायल हालत में मिला है, जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी से पता चला की भाई-बहन की हत्या रस्सी से गला घोंटकर की गई है।

पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। शुक्रवार की सुबह पुलिस को खबर लगी कि हस्तिनापुर के जंगल में एक महिला व पुरूष की लाश पड़ी हैं। खबर मिलते ही पुलिस तुरंत जंगल पहुंची। मौके पर महिला व पुरूष का शव मिला। वही थोड़ी दूर पर जख्मी हालत में एक बच्चा रोता हुआ मिला। बच्चे ने बताया कि उसका नाम विक्की है औऱ वे अमायन भिंड जिले के रहने वाले हैं।

पुलिस ने जांच की तो मालूम हुआ कि मृत महिला का नाम जल देवी है और पुरूष का शव उसके भाई भीकम सिंह का है। बाद में पुलिस ने घायल बालक विक्की को डबरा के अस्पताल में उपचार के लिए पहुंचाया। फ़िलहाल पुलिस यह पता लगाने में जुटी हुई है कि भाई-बहन और लड़का हस्तिनापुर के जंगल में कैसे पहुंचे। क्या इन्हे अगवाह किया गया था औऱ हत्या का कारण क्या है। शुरुआती जांच में यह भी मालूम हुआ कि किसी रंजिश के चलते यह हत्या की जा सकती है।

मेहगांव से बहन को लेकर जा रहा था भीकम

रक्षाबंधन के त्यौहार पर अपनी बहन जलदेवी और भांजे विक्की को भीकम मेहगांव से लेकर गुरुवार को निकला था, लेकिन जब देर रात वह वापस घर नहीं पंहुचा, तब भीकम के भाई ने जलदेवी के पति मुरारीलाल को फोन लगाकर जानकारी ली। इससे मालूम हुआ कि वे तो दिन में ही मेहगांव से निकल गए थे। बाद में खोजबीन शुरू हुई तो हस्तिनापुर के जंगलों में जलदेवी और उसके भाई भीकम की लाश मिली।