FATF की बैठक में ब्लैकलिस्टिंग से बचने के लिए पाकिस्तान ने लिया इस देश का सपोर्ट

FATF की बैठक में ब्लैकलिस्टिंग से बचने के लिए पाकिस्तान ने लिया इस देश का सपोर्ट

पाकिस्तान के साथ कई मसलों पर चर्चा करने के लिए तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन पाक के दो दिवसीय दौर पर हैं. एर्दोगन ने कहा कि वह फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक में पाकिस्तान को काली सूची में डालने जाने का विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दबाव का मुकाबला करने के लिए वह इस्लामाबाद का साथ देंगे.आतंकी वित्तपोषण और वैश्विक धन शोधन पर नजर रखने वाली संस्था एफटीएफ ने पाकिस्तान को ग्रे-लिस्ट में शामिल किया है. अगर पाकिस्तान एफएटीए की शर्तो को पूरा नहीं कर पाता तो उसे ब्लैकलिस्टिंग का सामना करना पड़ सकता है.

कासिम सुलेमानी की मौत के बाद नाटो ने सुरक्षा को लेकर उठाया महत्वपूर्ण कदम

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एफएटीएफ की अगली प्लेनरी बैठक पेरिस में होने वाली है. ऐसे में तुर्की, चीन, मलेशिया और सऊदी अरब जैसे सहयोगी देशों के समर्थन से पाकिस्तान को काली सूची से दूर रहने में मदद मिल सकती है.

क्या माइक्रोसॉफ्ट सीईओ 'सत्या नडेला' का भारत दौरा होगा सफल?

ब्लैकलिस्टिंग से बचने के लिए किसी भी देश को न्यूनतम तीन वोटों की आवश्यकता होती है. यदि ईरान और उत्तर कोरिया के साथ पाकिस्तान भी ब्लैकलिस्ट में शामिल हो जाता है, तो उसे ऐसे समय में प्रतिबंधों और आर्थिक झटकों का सामना करना पड़ेगा जब इसकी अर्थव्यवस्था संकट से जूझ रही है.एर्दोगन ने इस्लामाबाद पहुंचने के एक दिन बाद पाकिस्तान की संसद में कहा, 'हम फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक में पाकिस्तान का समर्थन करेंगे, जहां पाकिस्तान के उपर राजनीतिक दबाव डाला जा रहा है.

कोरोनावायरस ने मेडिकल स्‍टाफ पर किया हमला, इतने स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी हुए संक्रमि‍त

पेशावर के आर्मी पब्लिक स्कूल हमले में दोषी को सजा दिलावाने के लिए परिजनों ने ली कोर्ट की शरण

इराक : अमेरिकी सैन्य अड्डे पर खतरनाक रॉकेट से हमला, जानिए मौत का आकड़ा