तोरई के साथ उसके छिलके भी हैं काम के..

तोरई के साथ उसके छिलके भी हैं काम के..

तोरई के बारे में जानते ही होंगे. यह एक प्रकार की सब्ज़ी है जो कुछ कुछ गिलकी की तरह दिखाई देती हैं. इसका वानस्पतिक नाम लूफा सिलिन्ड्रिका है. तोरई एक विशेष महत्त्व वाली सब्ज़ी है जिससे आपकी सेहत को कई तरह के फायदे होते हैं. यह रोगी लोगों के लिए अत्यन्त लाभदयक होती है. इसकी खेती सम्पूर्ण भारत में की जाती है. सब्ज़ी के अलावा इसके सूखे हुए रेशे को बर्तन साफ़ करने, जूते के तलवे तथा उद्योगों में फिल्टर के रूप में प्रयोग किया जाता है. यानि तोरई को खाने के साथ आप दूसरी चीज़ों में भी उपयोग कर सकते हैं.

* आपकी जानकारी के लिए बता दें. तोरई की तरकारी बहुत हल्की मानी जाती है. तोरई छोटी, रूखी, तेज, उष्णवीर्य और उल्टी को दूर करने वाली है.

* इतना ही नहीं यह कफ-पित्त के रोग को दूर करने वाली, ख़ून को साफ़ करने वाली, सूजन और पेट की गैस को दूर करने वाली है.

* पेट की गाँठें, रस और फल में कड़ुवा, ख़ून की बीमारी, तिल्ली के बढ़ने में, खाँसी, सांस सफ़ेद दाग़ (कुष्ठ), पीलिया, बवासीर और टी.बी. को दूर करती है. 

इतना ही नहीं, इसके छिलके भी आपके बहुत काम आते है जिनके बारे में आपको जानकारी बिलकुल नहीं होगी. जानिए किस तरह इसके छिलके भी काम आते हैं. 

तोरई का छिलका : तोरई का ताजा छिलका त्वचा पर रगड़ने से त्वचा साफ होती है.

इन बिमारियों में कारगर होता है आयुर्वेद इलाज, जानिए वो बीमारी और उनके उपाय

खाना-खाने के बाद ऐसी गलतियां पड़ सकती है आपके स्वास्थ पर भारी

बेटी के पहले पीरियड में माँ समझाएं उन्हें ये बातें