मंगल दोष के कारण आ रही समस्याओं का निवारण

Feb 26 2016 07:38 AM
मंगल दोष के कारण आ रही समस्याओं का निवारण

आज इस दुनियाँ में बहुत सी समस्याएं उपज रही है. जिनके चलते मानव जीवन में बहुत सी कठनाइयों का सामना करना पड़ रहा है .पर यदि हम वास्तु और ज्योतिष का सहारा लें तो हर एक समस्या का निदान है .मानव जीवन में गृह दोष को लेकर भी बहुत सी समस्याएं आती है .इन्ही में एक मंगल दोष भी है जिसका निवारण किया जा सकता है.ज्योतिष में इसको दूर करने के बहुत ही सरल उपाय बताए गए हैं.

दोष से पीड़ित जातक को चाहिए की वह मंगल यंत्र की स्थापना करे .
वह नित्य नियम से हनुमान चालीसा का पाठ करे. 
मंगलवार को मंगलदेव की विशेष रूप से पूजा करना चाहिए.
देवों में सर्वप्रथम पूज्य गणेशजी को गुड़ और लाल फूल अर्पित करें .
जिस भी व्यक्ति की कुंडली में मंगल दोष है तो प्रति मंगलवार को शिवलिंग पर कुमकुम अर्पित करें.उसे इस दोष से शांति मिलेगी .

आप यदि मंगलदेव को प्रसन्न करना चाहते है तो उनकी प्रिय वस्तुओं जैसे लाल मसूर की दाल, लाल कपड़े का दान करना चाहिए. मूंगा रत्न भी धारण करें. यह रत्न जातक की कुंडली में मंगल के क्षीण अथवा प्रबल होने या अंश के अनुसार उसकी डिग्री के हिसाब से पहना जाता है.

किसी भी रत्न का मानक रत्ती के हिसाब से होता है अत: कुंडली में मंगल की स्थिति महादशा, अंतरदशा और प्रत्यंतर दशा के अनुसार रत्ती के हिसाब से मूंगा धारण करना चाहिए. जातक की कुंडली में यदि मंगल निम्न का है अथवा बहुत ही कम डिग्री का है तो मंगल दोष के निवारण के लिए मंगल के जाप भी किए जा सकते हैं.

इस दोष के निवारण के लिए मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थिति मंगलनाथ में जहां भारत का एकमात्र पृथ्वी माता का मंदिर भी है.वहां मंगल दोष के निवारण के लिए विशेष रूप से पूजन किया जाता है. और इस दोष के लिए पूजा अपनी पत्रिका या कुंडली में स्थिति मंगल दोष के अनुसार ही किसी अच्छे ज्योतिषि की सलाह के अनुसार करना चाहिए .