घर में इन हर्ब्स को जरूर लगाए , किचन इंग्रेडिएंट्स में औषदीय वनस्पति मिलेगी

घर में इन हर्ब्स को जरूर लगाए , किचन इंग्रेडिएंट्स में औषदीय वनस्पति मिलेगी

आज हम आपको बताने वाले है ऐसे ही कुछ औषधीय वनस्पतियां के बारे में जो कि इंडियन किचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन पौधों को आप अपने किचन गार्डन में जरूर शामिल करें। तो आइए जानें इन हर्ब्स के बारे में।

करी पत्ता:करी पत्ता के इस्‍तेमाल साउथ इंडियन खानों में ज्यादा किया जाता है।  साउथ इंडिया के तकरिबन हर खाने चटनी, सांबर, सब्जी या करी में इसका इस्‍तेमाल किया जाता है। वैसे इसका इस्‍तेमाल नॉर्थ इंडिया में भी काफी किया जाता है। इसका इस्तेमाल खाने में स्वाद को बढ़ाने के लिए भी किया जाता है। करी पत्तों में एंटीऑक्सीडेंट और अन्य पोषक तत्वों भी शामिल होते हैं जो हमारे हेल्‍थ के लिए भी फायदेमंद होता है।

तेज पत्ता:अधिकांश इंडियन रसोई में तेज पत्ते का इस्तेमाल किया जाता है। ज्‍यादातर इंडियन रेसिपीज में तेज पत्ते का इस्‍तेमाल होता है। इसे चावल, बिरयानी, पुलाव, करी और छोले जैसी रेसिपीज में इस्तेमाल किया जाता है। यह खाने में एक अलग स्वाद लाता है। तेज पत्तों का स्वाद दालचीनी की तरह होता है और यह स्वाद में हल्के से मीठे होते हैं, इसलिए इस पत्ते का सेवन नहीं किया जाता है, बल्कि इसको खाने में टेस्‍ट बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

पुदीना:पुदीना एक आम औषधीय वनस्पति है जो कि साल भर इस्तेमाल किया जाता है। गर्मियों में इसका उपयोग ज्‍यादा किया जाता है। वहीं, सर्दियों में इसे सूखाकर इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर पुदीने की चटनी बनती है। जिसे इंडियन फूड के साथ सर्व किया जाता है। ताजा पुदीना के पत्तों का इस्तेमाल आप चटनी के रूप में, चाय में और सब्जी को एक नया टेस्ट देने के लिए कर सकती हैं। इसी के साथ इसका इस्तेमाल रिफ्रेशिंग ड्रिंक बनाने में भी किया जाता है। इससे रायता भी बनाया जाता है। पुदीना पाचन संबंधी समस्‍याओं में बहुत कारगर साबित होता है। इसे हमेशा किसी बड़े गमले में उगाएं क्योंकि यह तेजी से फैलता है।

तुलसी:तुलसी एक पारंपरिक पौधा है और हिंदू धर्म में इसका बहुत ज्यादा महत्व है। वैसे तुलसी को औषधीय गुणों के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। थाई और इटेलियन बेसिल की तुलना जब इंडियन बेसिल यानि तुलसी से होती है, तो ऐसे में भारतीय तुलसी ज्यादा अच्‍छी होती है। तुलसी का इस्‍तेमाल खांसी और सर्दी से निजात पाने के लिए किया जाता है, ऐसे में इसका चाय या काढ़ा बनाया जाता है। इसका सेवन करके आप सिरदर्द, श्वसन संबंधी बीमारियों, थकान, स्किन इंफेक्शन और दिल की बीमारी आदि से छुटकारा पा सकती है। तुलसी के सेवन से शरीर का इम्यून सिस्टम और भी मजबूत होता है और बीमारियों से भी राहत मिलती हैं। इस पौधे की ज्यादा देखभाल नहीं करनी पड़ती इसलिए इसे अपने किचन गार्डन मे जरूर शामिल करें।

धनिया: धनिया आपके खाने को एक नया टेस्‍ट देता है। लगभग हर खाने में धनिए का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए ये आपके किचन के सबसे अहम हर्ब्स में से एक है। ऐसे में ये ज्‍यादा सही रहेगा कि आप इसे अपने किचन गार्डन में उगाएं। किचन गार्डन में इसे उगाने से आपको साफ और स्वच्छ धनिया मिल पाएंगा।

मेथी: मेथी वैसे तो टेस्‍ट में कड़वी होती है, लेकिन कई लोगों को मेथी काफी पंसद होती है। वैसे मेथी इस्‍तेमाल कई सारी रेसिपीज को बनाने में किया जाता है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल दाल, करी, चिकन और परांठों आदि में किया जाता है। इसका इस्तेमाल सर्दियों में ज्‍यादा किया जाता है क्योंकि यह शरीर में गर्मी उत्पन्न करता हैं।

इस शादी के सीजन में ये स्टाइल है टॉप ट्रेंडिंग में, आपके स्टाइल में भर देंगे नया चार्म

अपने पैरो की खूबसूरती बढ़ाने के लिए कैर्री करे ये स्टाइलिश एंक्लेट ....

हर फेस्टिव लुक को परफेक्ट टच देते है इस तरह के पंजाबी सूट, ट्राई करे मिलेगा डिफरेंट लुक