बकरीद पर भी पाकिस्तान में अहमदिया मुस्लिमों की प्रताड़ना नहीं हुई बंद, कुर्बानी देने पर दर्जनों हुए गिरफ्तार

बकरीद पर भी पाकिस्तान में अहमदिया मुस्लिमों की प्रताड़ना नहीं हुई बंद, कुर्बानी देने पर दर्जनों हुए गिरफ्तार
Share:

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों का दमन निरंतर जारी है। पाकिस्तान के पुलिस-प्रशासन को अहमदिया समुदाय का बकरीद के मौके पर कुर्बानी देना भी रास नहीं आ रहा है। ऐसा करने वालों पर पाकिस्तान की पुलिस अत्याचार कर रही है। कुर्बानी देने वालों के घरों में छापे मारे जा रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बकरीद के पश्चात् पाकिस्तान में पुलिस ने कम से कम 36 अहमदिया को गिरफ्तार किया है। इनका अपराध यह है कि इन्होने बकरीद के दिन कुर्बानी दी थी। पाकिस्तान में अहमदियों का कुर्बानी देना जुर्म है। अहमदियों को पाकिस्तान में गैर-मुस्लिम माना गया है।

अहमदिया समुदाय के लिए पाकिस्तान में काम करने वाली संस्था जमात-ए-अहमदिया के सदस्य आमिर महमूद ने मीडिया को बताया, “पाकिस्तान भर में ईद-उल-अजहा के मौके पर पशुओं की कुर्बानी करने के इल्जाम में अल्पसंख्यक अहमदिया समुदाय के कम से कम 36 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से ज्यादातर लोग पंजाब प्रांत के हैं।” जमात ने इल्जाम लगाया कि पाकिस्तान में पुलिस भी इस प्रताड़ना में भाग ले रही है। वह अहमदियों के घरों पर जाकर छापे मार रही है। जहाँ भी कोई अहमदिया परिवार कुर्बानी करते मिलता है, तो उस परिवार सदस्यों को गिरफ्तार किया जा रहा है साथ में कुर्बानी वाले पशु को भी जब्त किया जा रहा है।

अहमदियों का पाकिस्तान में उत्पीड़न यहाँ तक बढ़ गया है कि उन्हें ईद की नमाज तक पढ़ने से रोका गया। पाकिस्तान की कट्टर इस्लामी पार्टी तहरीक-ए-लब्बैक इस आग में घी डालने का काम कर रही है तथा अहमदियों को धमका रही है। पाकिस्तानी पुलिस के अहमदियों को गिरफ्तार करने के वीडियो भी सामने आए हैं। अहमदियों को प्रताड़ित करने की ऐसी ही एक घटना पंजाब के टोबा टेक सिंह जिले से सामने आई है। यहाँ गोजरा गाँव में बकरीद के मौके पर एक अहमदिया मुस्लिम पर बकरा कुर्बान करने का इल्जाम लगाकर उसके खिलाफ FIR दर्ज करवाई गई है। 

FIR में बताया गया है कि अहमदिया व्यक्ति ने स्वयं को मुसलमान बताकर एक अपराध किया है। यह शिकायत तहरीक-ए-लब्बैक ने दर्ज करवाई है। व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है। अहमदियों की प्रताड़ना का यह कोई अकेला मौका नहीं है। जून महीने में ही पाकिस्तान के मंडी बहाउद्दीन क्षेत्र में 2 अहमदियों का गोली मारकर क़त्ल कर दिया गया था। अहमदियों को पाकिस्तान में कानून बनाकर प्रताड़ित किया जाता रहा है। उन्हें मुस्लिम का दर्जा नहीं दिया जाता तथा वह ऊँचे सरकारी पदों पर भी नहीं बैठ सकते। पाकिस्तान में अहमदियों को कोई भी सरकारी कागज लेने के लिए एक शपथ पत्र दाखिल करना होता है जिसमें वह स्वयं को गैर मुस्लिम घोषित करते हैं।

PM मोदी ने किया ऐतिहासिक नालंदा यूनिवर्सिटी के नए कैंपस का उद्घाटन, करीब से किया पुरानी धरोहर का दीदार

जावरा के बाद इंदौर के मंदिर में मिले मवेशी के टुकड़े, मची सनसनी

'बदमाश छोटा हो या बड़ा किसी को देवभूमि का माहौल खराब करने की छूट नहीं दी जाएगी', बोले CM पुष्कर सिंह धामी

Share:
रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -