Tokyo Paralympics: कभी फुटबॉलर बनना चाहते थे मनीष नरवाल, अब शूटिंग में देश के लिए जीता ;गोल्ड मेडल'

नई दिल्ली: Tokyo Paralympics में भारतीय एथलीट्स का बेहतरीन प्रदर्शन जारी है. शनिवार को शूटिंग में भारतीय पैराशूटर्स ने शानदार खेल दिखाया. मनीष नरवाल ने P4 मिक्स्ड 50 मीटर पिस्टल SH-1 में स्वर्ण पदक जीता. उन्होंने फाइनल में 218.2 स्कोर के साथ पहला स्थान प्राप्त किया. खास बात ये रही कि इस इवेंट में दूसरे पायदान पर भी भारतीय एथलीट सिंहराज रहे और उन्होंने रजत पदक अपने नाम किया. 
 
बता दें कि मनीष नरवाल, फुटबॉलर बनना चाहते थे. किन्तु दिव्यांगता उनके सामने चुनौती बनकर खड़ी थी, लेकिन ये चुनौतियां मनीष के एथलीट बनने के इरादे को कमज़ोर नहीं कर सकी.  मनीष ने पिता और सहयोगियों की सलाह पर  2016 में शूटिंग में आगे बढ़ने का फैसला किया. नरवाल ने हरियाणा के फरीदाबाद में शूटिंग का अभ्यास शुरू किया. इसके बाद उन्होंने कभी पीछे पलटकर नहीं देखा. नरवाल कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं में जीत दर्ज कर चुके हैं.
 
मनीष नरवाल को 2020 में अर्जुन पुरस्कार से नवाज़ा गया था. वे सोनीपत के रहने वाले हैं. हालांकि, वे उनके पिता दिलबाग सिंह बहुत साल पहले फरीदाबाद में आकर रहने लगे थे. मनीष ने 2018 में जकार्ता में हुए एशियाई खेलों में 10 मी और 50 मीटर इवेंट में एक स्वर्ण और एक कांस्य पदक जीता था. मनीष ने सिडनी में 2019 वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी शानदार खेल दिखाया. उन्होंने जिन इवेंट्स में हिस्सा लिया, उनमें से तीन में कांस्य पदक जीता. नरवाल ने 2021 पैराशूटिंग वर्ल्ड कप में 10 मीटर में वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ते हुए 229.1 पॉइंट प्राप्त किए. 

सचिन-द्रविड़ के क्लब में शामिल हुए रोहित शर्मा, हासिल किया ये ख़ास मुकाम

Ind Vs Eng: भारत को मैच में वापस लाए गेंदबाज़, अब इंग्लिश पेसर्स के सामने बल्लेबाज़ों की 'अग्निपरीक्षा'

टोक्यो पैरालंपिक खेलों में मनीष-सिंहराज का धमाका, भारत को एक साथ दिलाया गोल्ड और सिल्वर

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -