फौजी ताकत बढ़ाने के लिए चीन बना रहा है स्टील्थ हेलिकॉप्टर

बीजिंग. अपनी फौजी ताकत को बढ़ाने के लिए चीन नई जेनरेशन के स्टील्थ हेलिकॉप्टर का निर्माण कर रहा है. 2020 तक स्टील्थ हेलिकॉप्टर्स सेना को सौंपे जाएंगे. ये हेलिकॉप्टर्स दुश्मन की नजरों से छिपकर मिशन को अंजाम देते है. चीन के सरकारी न्यूजपेपर चाइना डेली ने यह जानकारी सौपी है. चाइना डेली के अनुसार, 'एविएशन इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन ऑफ चाइना (एवीआईसी) इनका निर्माण कर रहा है.' एवीआईसी, चीन की सबसे बड़ी हथियार निर्माण करने वाली कंपनी है. कंपनी के चेयरमैन लिन जुओमिंग ने कहा कि इस हेलिकॉप्टर की छिपने वाली तकनीक आर्मी की युद्ध क्षमता को पूरी तरह से बदलकर रख देगी.

लिन ने आगे बताया, "आमतौर पर ग्राउंड फोर्स, हेलिकॉप्टर्स पर निर्भर होती है, क्योंकि उनके पास हथियारबंद गाड़ियों की अपेक्षा हमला करने की ज्यादा क्षमता होती है. कंपनी के चीफ हेलिकॉप्टर डिजाइनर वू शिमिंग ने यह भी बताया कि मुश्किल की घड़ियों में और ज्वॉइंट ऑपरेशन्स के दौरान इनका प्रदर्शन दूसरे हेलिकॉप्टर्स के मुकाबले ज्यादा अच्छा होगा. स्टील्थ टेक्नोलॉजी के फाइटर जेट और हेलिकॉप्टर्स को रडार के द्वारा नहीं पकड़ा जा सकता है.

यही वजह है कि दुनिया की सभी बड़ी महाशक्तियां तेजी से स्टील्थ टेक्नोलॉजी के जेट बनाने में लगी हैं. 2011 में आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए ऑपरेशन में ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर्स का उपयोग किया गया था. जिसकी मदद से अमेरिका पाकिस्तान की सीमा में घुसा था. और उसे रडार भी पकड़ नहीं पाये थे.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -