अगस्ता मामले को लेकर सदन में बवाल, TMC सांसद को निकाला बाहर

नई दिल्ली : सोमवार को सदन में अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले ने गमासान मचा दिया। राज्यसभा में उम्मीद के उल्ट कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सांसद आमने-सामने हो गए है। तृणमूल अगस्ता मामले में चर्चा कराने की मांग कर रही थी, जब कि कांग्रेस गुजरात में कैग के मामले को सदन में उठाना चाहती थी।

हंगामा बढ़ती देख चेयरमैन ने तृणमूल के सांसद सुखेंदु शेखर रॉय को सदन से बार कर दिया। दोनों दलों के नेता वेल में पहुंचकर नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान सभापति ने सुखेंदु से कई बार बैठने को कहा, लेकिन जब वो नहीं मानें तो सांसद को रुल नंबर 255 के तहत दोषी मानते हुए सदन से बाहर कर दिया गया।

कांग्रेस के मधुसून मिस्त्री ने शू्नयकाल में गुजरात स्टेट पेट्रो निगम पर आई कैग की रिपोर्ट पर चर्चा के लिए नोटिस दिया था। तृणमूल ने इसका विरोध किया था। सदन की शुरुआत से पहले ही तृणमूल के नेता अगस्ता डील पर चर्चा कराने की मांग कर चुके थे। लिहाजा सभा की शुरुआत होते ही हंगामा शुरु हो गया।

सदन को पहले 11.30 बजे, फिर 12 बजे और फिर 12.30 तक के लिए स्थगित कर दिया गया। दूसरी ओर, सदन में इटली मैरीन केस में पीएम मोदी और इतालवी प्रधानमंत्री के बीच बातचीत का मुद्दा उठाने को लेकर बीजेपी सांसद भूपेंद्र यादव कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद के ख‍िलाफ विशेषाधि‍कार हनन का प्रस्ताव दिया है।

संसदीय कार्य मंत्री वैंकेया नायडू ने कहा कि इस तरह हंगामा खड़ाकर विपक्ष अगस्ता मामले को दबाना चाहती है। गुजरात का मुद्दा विधानसभा का है, इसलिए इसे विधानसभा में उठाया जाना चाहिए। उधर सोमवार की सुबह पीएम मोदी ने मंत्रियों के साथ बैठक की। इस दौरान रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, वैंकेया नायडू, गृह मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद थे।

संसद में अधूरी जानकारी देने का आरो लगाकर रक्षा मंत्री के खिलाफ प्रविलेज नोटिस जारी किया जा सकता है। सुबह 10 बजे कांग्रेस ने भी अहम बैठक की। उधर विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने भी कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होने कहा कि कामग्रेस घोटालों की सरकार है। हथियार की दलाली में उन्हें भी 14 करोड़ रुपए की पेशकश की गई थी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -