मकर संक्राति पर इस तरह बनाए तिल और गुड़ के लड्डू, उंगलियां चाटते रह जाएंगे घरवाले

मकर संक्राति पर इस तरह बनाए तिल और गुड़ के लड्डू, उंगलियां चाटते रह जाएंगे घरवाले

मकर संक्राति का पर्व आने में कुछ ही समय बचा है और इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी को है और ऐसे में घर पर गुड़ से बनी मिठाईयां न बनें तो त्योहार अधूरा हो जाता है. वहीं इस त्यौहार पर तिल के लड्डू खूब बनाए जाते हैं और आज हम आपको बताने जा रहे हैं तिल के लड्डू की वो रेसेपी जो आपने कभी नहीं पढ़ी या सुनी होगी. इसे बनाने के बाद आप इसे बार बार बनाएँगे. 

साम्रगी-
तिल ( धुले हुये सफेद ) - 500 ग्राम ( 3 कप)
मावा - 500 ग्राम ( 2 1/2 कप)
बूरा - 500 ग्राम ( 3 कप)
काजू - 100 ग्राम (एक काजू के 6-7 टुकड़ों में काट लें)
छोटी इलाइची - 4 (छील कर बारीक कूट लीजिये)
गुड़-200 ग्राम

विधि - तिल के लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले तिल को अच्छे से साफ कर लें. इसके बाद कढ़ाई गरम करके तिल कढ़ाई में डालकर धीमी आंच पर तिल हल्के ब्राउन होने तक भूनें. तिल को ठंडा करके मिक्सी से पीस लें. इसके बाद दूसरी कढ़ाई में मावा हल्का ब्राउन होने तक भून लें. इसके लिए आप माइक्रोवेव का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. जिस कढ़ाई में तिल भूने हैं उसी में गुड़ को पिघला लें. तब तक चलाएं जब तक ये आधा न रह जाएं. अब इस गुड़ को सख्त होने से पहले मावा डालें. इसके बाद मावा, पिसे हुए तिल, इलाइची पाउडर और काजू के टुकडों को अच्छी तरह मिला लें. आपका लड्डू का मिश्रण बनकर तैयार हो चुका है. इस मिश्रण से गोल आकार के लड्डू बना लीजिए. इन लडुडुओं को दस से बारह दिन तक रख कर खाया जा सकता है.

मकर संक्रांति के नाम के पीछे क्या है महत्त्व, इस दिन ही क्यों सूर्य की किरणें पहुचांती हैं लाभ

इस वजह से मकर संक्रांति के दिन बनाई जाती है खिचड़ी, है ख़ास जुड़ाव

मकर संक्रांति के नाम के पीछे क्या है महत्त्व, इस दिन ही क्यों सूर्य की किरणें पहुचांती हैं लाभ