तीन बीवियों के पति थे टीआई हाकम सिंह

भोपाल के एक TI ने इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम में खुद को गोली मारकर सुसाइड कर लिया। उन्होंने पहले एक महिला सब इंस्पेक्टर को गोली मारी, इसके बाद खुद जान दे दी। पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र ने इसे प्रेम-प्रसंग का मामला बताया है। भोपाल के श्यामला हिल्स थाने के TI हाकम सिंह इंदौर आकर महिला ASI रंजना खांडे के साथ कॉफी पी रहे थे। दोनों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ और TI ने अचानक गोली चला दी। कंट्रोल रूम के बाहर दो फायर की आवाज सुन अन्य पुलिसकर्मी जब मौके पर पहुंचे तो वहां कार के पास TI हाकम सिंह पवार और ASI रंजना लहूलुहान पड़े थे। पुलिसकर्मियों ने समझा कि दोनों को किसी ने गोली मारी है। जब वे पास पहुंचे तो माजरा समझ आया। TI के पैरों के पास उनकी सर्विस रिवॉल्वर पड़ी हुई थी। जब महिला को हिलाया तो वह उठकर बैठ गईं और सड़क पर आ गईं। इसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

रंजना के भाई ने बताया विवाद का कारण।

घटना के समय रंजना का भाई कमलेश साथ था। कमलेश ने पुलिस को बताया, पुलिस में नौकरी के बाद बहन ने शादी नहीं की। हम चार भाई-बहन हैं। 10 दिन पहले क्रेटा गाड़ी को लेकर हाकम सिंह और बहन के बीच विवाद हुआ था। जिसके लिए रंजना ने भोपाल के जोन-3 के डीसीपी से शिकायत की थी। इस मामले को खत्म करने के लिए हाकम सिंह इंदौर आए थे। महिला ने हाकम सिंह से कार खरीदी थी, लेकिन TI ने कार ट्रांसफर नहीं की थी। इसी बात को लेकर दो-तीन दिन से दोनों में तनातनी चल रही थी।

कहासुनी के बीच हाकम सिंह ने सर्विस रिवॉल्वर निकाल कर रंजना पर फायर किया। गोली रंजना के कान को छूते हुए निकल गई। वो बेहोश होकर नीचे गिर गई। हाकम सिंह को लगा कि रंजना की मौत हो गई। इसके बाद उन्होंने अपनी बांए कनपटी पर गोली मार ली।

दोनों के बिच था अफेयर।

2012 में रंजना ने पुलिस भर्ती की परीक्षा दी। जिसमें उसका सिलेक्शन होने के बाद वो लगभग 5 साल धार में पदस्थ रही। 2018 में महेश्वर में उसकी मुलाकात TI हाकम सिंह से हुई। कुछ समय बाद TI का तबादला राजगढ़ हो गया और एएसआई का तबादला धार से इंदौर हो गया। वे दोनों इंदौर के डीआईजी ऑफिस में अक्सर मिलते रहते थे। दोनों के अफेयर होने की बात भी सामने आ रही है। 

 

सुसाइड करने वाले TI की थी 3 बीवी, तीसरी पत्नी ने सुनाई पूरी कहानी।

मैं बेटमा में रहती हूं, 8 साल पहले हाकम सिंह की पोस्टिंग गौतमपुरा में थी। इसी दौरान मेरी मुलाकात हाकम सिंह से हुई थी, मुलाकात बढ़ती गई और एक दिन हमने शादी कर ली। हाकम सिंह ने दो शादियां और की थीं, मैं उनकी तीसरी पत्नी हूं। उज्जैन के पास तराना की रहने वाली लीलावती उनकी पहली पत्नी है, लीलावती से कोई संतान नहीं होने के बाद हाकम सिंह ने सीहोर की रहने वाली सरस्वती से शादी की। सरस्वती से दो बच्चे हैं, बेटा मयंक और बेटी नेहा सीहोर के स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं।

हाकम सिंह ने जिस एएसआई रंजना को गोली मारी, उसके बारे में मुझे बताया था। रंजना ने शादी नहीं की है, वह कई दिनों से उन्हें परेशान कर रही थी। इन्वेस्टमेंट के नाम पर हाकमसिंह ने रंजना से 5 लाख रुपए का सोना लिया था। उन्होंने कई बार इस बारे में मुझे बताया। वो रुपए की मांग कर रही थी, हाकम सिंह ने मुझसे रुपए मांगे। मुझसे उनकी परेशानी देखी नहीं गई, तो मैंने प्लॉट और जेवर गिरवी रखकर 5 लाख का इंतजाम किया और हाकम सिंह को दिए। इसके बाद शुक्रवार को मुझे उनके सुसाइड की खबर मिली।

'तुमसे ही करूंगा शादी' बोलकर पलटा शख्स तो भड़क गई प्रेमिका, उठा लिया ये खौफनाक कदम

एक कटहल के लिए हत्या.., बीच सड़क पर हुआ क़त्ल, देखते रहे लोग

प्रेम जाल में फंसाकर हर लड़की से शादी करता है ये शख्स, 12 बार लिए 7 फेरे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -