नोटबंदी के तीन साल : इस दिन हुई थी कालाबाजारियों की रातें काली, भारत के लिए कितना रहा प्रभावी

Nov 08 2019 11:58 AM
नोटबंदी के तीन साल : इस दिन हुई थी कालाबाजारियों की रातें काली, भारत के लिए कितना रहा प्रभावी

आज यानी 8 नवंबर को साल 2016 में , इसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट पुराने नोट बंद करने की घोषणा की थी. इसके तुरंत बाद ही मानो पूरे देश में भूकंप सा आ गया. एटीएम के बाहर लंबी लाइनें, जमकर शॉपिंग और ढेर सारी प्रतिक्रियाएं. हमें बहुत कुछ देखने को मिला. सियासी बयानबाजी भी खूब हुई. सत्ता पक्ष ने जहां फैसले को देशहित में बताया, तो वहीं विपक्ष ने जमकर विरोध किया.

राजकोट में IND vs BAN टी20 मैच से पहले खिली धूप

इस बड़े फैसले के तीन साल बाद आम लोगों के जेहन में उसकी यादें थोड़ी धुंधली सी होती जा रही हैं. मगर हमारे नेता इस मुद्दे को लगातार हवा देकर इसे सियासी मुद्दा बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं. लोकसभा चुनाव ही नहीं बल्कि विधानसभा चुनावों में भी भाजपा के खिलाफ प्रचार में नोटबंदी का खूब सहारा लिया गया.

चक्रवात 'बुलबुल' को लेकर अलर्ट हुआ जारी, बंगाल में हो सकती है भारी बारिश

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जाने माने अर्थशास्त्री और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मुताबिक देश में मौजूदा आर्थिक सुस्ती के लिए नोटबंदी को ही जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों के लिए भाजपा जिम्मेदार है. भारतीय अर्थव्यवस्था के पटरी से उतरने के पीछे प्रमुख कारण नोटबंदी ही है. उनके बयान से ऐसा लगता है कि देश ​की अर्थव्यवस्था को इस फैसले ने बहुत नुकसान पहुंचाया है. 

नेपाल बॉर्डर पर हुआ अलर्ट, 7 आतंकी घुसपैठ की आशंका

तीस हजारी विवाद : आज उत्तर प्रदेश में हड़ताल पर रहेंगे वकील

PAK ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, हुआ एक और जवान शहीद