आरबीआई रिपोर्ट का खुलासा, नोटबंदी से देश को हुए तीन बड़े नुकसान

Sep 04 2018 03:40 PM
आरबीआई रिपोर्ट का खुलासा, नोटबंदी से देश को हुए तीन बड़े नुकसान

नई दिल्ली: नोटबंदी को लेकर देश भर में अलग-अलग चर्चाएं चल रही है, लेकिन अगर उन सबका मिला-जुला असर देखा जाए तो नोटबंदी से नुक्सान ही ज्यादा हुआ है, जबकि फायदा बिलकुल आंशिक है. यह खुलासा रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया(आरबीआई) द्वारा नोटबंदी पर जारी की गई रिपोर्ट के बाद हुआ है. तो आइए देखते हैं कि आरबीआई की रिपोर्ट के अनुसार नोटबंदी के क्या-क्या साइड इफ़ेक्ट हुए हैं ?

सुख गए निवेश स्त्रोत 


लोगों ने नकदी में बचत शुरू कर दी है, जिसका अर्थ है कि घरेलू बचत का एक बड़ा हिस्सा नकद में है, नकदी में घरेलू बचत की राशि लगभग बैंकों में जमा राशि के बराबर होती है और पिछले पांच वर्षों की तुलना में नकदी का अनुपात दोगुना से अधिक हो गया है. आरबीआई की रिपोर्ट का कहना है कि घरेलू बचत निवेश का एक प्रमुख स्रोत है,यदि बचत बैंकिंग प्रणाली तक नहीं पहुंच रही है, तो इसका मतलब है कि निवेश स्रोत सूख रहा है, यदि रिपोर्ट की बात मानी जाए तो इसका मतलब है कि व्यवसाय नहीं बढ़ेगा और रोजगार के अवसर स्थिर हो जाएंगे.

विनिर्माण क्षेत्र भी हुआ सुस्त 


कुल जीवीए विकास में उद्योग का योगदान 2015-16 में 33.5 प्रतिशत से घटकर 2017-18 में 20.0 प्रतिशत हो गया, इसके अलावा, विकास के चक्रीय घटक 2017-18 में नकारात्मक हो गए और विनिर्माण उप-क्षेत्र में क्षमता का उपयोग 10 साल के औसत से नीचे रहा. इससे सिद्ध होता है कि नोटबंदी से विनिर्माण क्षेत्र भी सुस्त हो गया है.

क्रेडिट ग्रोथ भी गिरी नीचे


नोटबंदी के कुछ सप्ताह बाद बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ भी ऐतिहासिक निचले स्तर पर पहुँच गया, इसी के साथ वसूली पर भी लगाम लग गई, रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, 2018 में उद्योग को दिए गए ऋणों में वृद्धि 1 प्रतिशत से भी कम है. इसमें छोटे और मध्यम उद्यमों को दिए गए ऋण शामिल हैं. इसके कारण, व्यवसाय में वृद्धि धीमी हो जाएगी, जो रोजगार के अवसरों को भी प्रभावित करेगी. 

हालाँकि नोटबंदी के इन दुष्प्रभावों के बाद कुछ लोग तर्क दे रहे हैं कि इससे प्रत्यक्ष कर संग्रह में वृद्धि हुई है, औसतन, 2008-14 के बीच, कर संग्रह उस दर से बढ़ रहा था जिस पर देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) बढ़ रहा था. लेकिन एनडीए शासन के पहले दो वर्षों के दौरान, इस वृद्धि में गिरावट देखी गई. 

ये भी पढ़ें:-​

ऑल स्टेट कश्मीरी पंडित कॉन्फ्रेंस का सरकार पर इल्ज़ाम

कारगिल चुनाव : बीजेपी का पहली बार खुला खाता, जानें किस पार्टी को बहुमत मिला

सत्ता का दुरूपयोग: संसदीय रिपोर्ट ने दिखाई नोटबंदी की सच्चाई, भाजपा ने लगाया रिपोर्ट पर बैन

 

 

?