राम मंदिर का एक और विरोधी, जैश-ए-मोहम्मद बोला- इंशाल्लाह, इसे गिराना हमारी जिम्मेदारी

राम मंदिर का एक और विरोधी, जैश-ए-मोहम्मद बोला- इंशाल्लाह, इसे गिराना हमारी जिम्मेदारी
Share:

अयोध्या: पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) ने अयोध्या में राम मंदिर के खिलाफ एक गंभीर धमकी जारी की है, जिसका उद्देश्य भय और अशांति पैदा करना है। एक ऑडियो संदेश के माध्यम से दी गई इस धमकी के बाद अधिकारियों ने मंदिर परिसर के आसपास सुरक्षा उपाय बढ़ा दिए हैं। सुरक्षा एजेंसियां ​​फिलहाल हाई अलर्ट पर हैं और मामले की गहन जांच शुरू कर दी है। जैश-ए-मोहम्मद के ऑडियो संदेश में 2001 में राम मंदिर पर हुए हमले का जिक्र किया गया है, जिससे इस घटना के फिर से होने की आशंका बढ़ गई है। इसलिए, मंदिर को किसी भी संभावित खतरे से बचाने के लिए सुरक्षा व्यवस्था को काफी बढ़ा दिया गया है। ऑडियो में जैश के आतंकी ने कहा है कि  “बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।” 

स्थिति की गंभीरता को और बढ़ाते हुए, पाकिस्तान से जुड़े आतंकवादियों ने हाल ही में राम मंदिर के उद्घाटन के बाद भारत में हमलों की और धमकियाँ जारी की हैं। ये धमकियाँ खास तौर पर "हिंदुत्ववादी ताकतों" और 22 जनवरी को उद्घाटन समारोह में भाग लेने वाले प्रमुख लोगों को लक्षित करती हैं। ऐसी ही एक धमकी फरहतुल्लाह गौरी की ओर से आई थी, जो कई आतंकी अपराधों का आरोपी एक भगोड़ा भारतीय आतंकवादी है, जबकि दूसरी धमकी लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) की शाखा द रेजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) की ओर से जारी की गई थी। दोनों धमकियों में राम लला के अभिषेक समारोह की निंदा की गई और जवाबी कार्रवाई का आह्वान किया गया।

गौरी ने "राम मंदिर: युद्ध की घोषणा" शीर्षक वाले एक वीडियो में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और उसके वैचारिक सहयोगी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के खिलाफ जिहाद का आह्वान किया, जिसका उद्देश्य भारत को इस्लामिक राज्य में बदलना है। गौरी की आवाज़ और प्रमुख राजनीतिक हस्तियों की तस्वीरों वाले इस वीडियो में मीडिया कर्मियों को भी निशाना बनाया गया है। इसके अलावा, वीडियो में जिहाद की निंदा करने वाले उदारवादी मुस्लिम नेताओं की आलोचना की गई है और उन्हें देशद्रोही बताया गया है। सुरक्षा विश्लेषकों को संदेह है कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह भारत में संवेदनशील व्यक्तियों को कट्टरपंथी बनाने के लिए मंदिर के उद्घाटन का फायदा उठा सकते हैं।

जनवरी की शुरुआत में उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने गोंडा जिले से ताहर सिंह और ओम प्रकाश मिश्रा नामक दो लोगों को राम मंदिर और वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ़ धमकी देने के आरोप में गिरफ़्तार किया था। एसटीएफ ने खुलासा किया कि सिंह और मिश्रा ने देवेंद्र तिवारी के निर्देश पर काम किया, जिसने कथित तौर पर उनके कामों के बदले में उन्हें राजनीतिक लाभ पहुंचाने का वादा किया था। अधिकारी सतर्क हैं तथा राम मंदिर और वहां आने वाले आगंतुकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इन खतरों की जांच जारी है।

भारत में बढ़ते बाजार को देखकर ग्लोबल एयरलाइंस ने देश में शुरू की नई फ्लाइट्स

आंध्र प्रदेश के डिप्टी CM बने पवन कल्याण, NDA सरकार में मिले ये अहम विभाग

भारत पर दुनिया का भरोसा ! विदेशी बैंकों ने ख़रीदे लगभग 1 बिलियन डॉलर के सरकारी बॉन्ड

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -