MP की इस सरपंच ने पेश की अनोखी मिसाल, चुनाव के दौरान किया जो वादा उसे निभाया

MP की इस सरपंच ने पेश की अनोखी मिसाल, चुनाव के दौरान किया जो वादा उसे निभाया
Share:

बालाघाट: मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले से एक दिल खुश करने वाली खबर सामने आई है यहाँ ग्राम पंचायत चरेगांव सरपंच ने चुनाव में जो वादा किया उसे निभाया भी. उन्होंने वादा किया था की वह चुनाव जीतेंगे तो बच्चों को अग्रेंजी भाषा सिखायेंगी. चुनाव जीतने के पश्चात् महिला सरपंच ने ग्राम पंचायत भवन में ही बच्चों को अग्रेंजी भाषा सीखाने के लिए कोचिंग खोल दी. चरेगांव की सरपंच प्रतिदिन सुबह 2 घंटे बच्चों को अग्रेंजी भाषा सीखाने का भरपूर कोशिश कर रही हैं. जिले में इस वर्ष के बोर्ड परीक्षा के आए नतीजों में अंग्रेजी बच्चों की परेशानी थी. इसलिए सरपंच प्रतिदिन तकरीबन 25 से 30 छात्र-छात्राओं को निशुल्क अंग्रेजी की कोचिंग दे रही हैं.

बालाघाट जनपद पंचायत के गांव पंचायत चरेगांव की सरपंच मीना पुरुषोत्तम बिसेन अपने गांव में प्रातः 9 बजे से 12 बजे तक पंचायत भवन में अंग्रेजी की कोचिंग क्लास दे रहीं हैं. गांव के निर्धन बच्चों को अग्रेंजी भाषा सीखने में होने वाली समस्याओं को देखते हुए सरपंच ने अब अंग्रेजी भाषा में परिपक्व कर गांव के बच्चों को शहर तक पहुंचाने का बीड़ा उठा लिया है. महिला सरपंच की यह अनोखी पहल एक मिसाल के तौर पर देखी जा रही है. बता दें की सरपंच मीना पुरुषोत्तम बिसेन सरपंच बनने के पहले बालाघाट के टैगोर मोंटेसरी हायर सेकेंडरी स्कूल में प्रिंसिपल के पद पर थी. मीना छात्र-छात्राओं को अंग्रेजी पढ़ाया करती थीं. किन्तु, उन्होंने अपने गांव के बारे में सोचा तथा अपने पद से इस्तीफा देकर ग्राम के विकास एवं ग्राम के बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने का संकल्प लिया. 

मीना बिसेन ने पंचायत चुनाव लड़ा और वो जीतकर सरपंच बन गईं. मीना ने चुनाव के चलते अपने संकल्प पत्र में निशुल्क शिक्षा देने का जिक्र किया था. अब मीना अपने वादे के मुताबिक, गांव और आसपास के बच्चों को निःशुल्क अंग्रेजी शिक्षा देने का काम कर रही हैं. माहिल सरपंच मीना बिसेन ने कहा कि वह लगभग 18 वर्षों तक शिक्षा विभाग से जुड़ी हुई थीं. निजी चिकित्सालय में प्रधानाचार्य पद पर रहीं, उन्होंने सोचा की जब वह सरपंच बनेंगी तो उसी शिक्षा की सीख गांव के बच्चों को शिक्षित करने में देंगी. उन्होंने कहा की यही उनकी सोच है, इसलिए उन्होंने एक मार्च से पंचायत भवन में इंग्लिश कोचिंग आरम्भ कर दी. अभी गर्मी और शादी के चलते लगभग 25 से 30 बच्चें ही आ रहें हैं. उन्होंने कहा कि यदि गांव के बच्चों को सही मार्गदर्शन मिल जाए तो वह अपने सपने पुरे कर सकते हैं क्योंकि गांव के बच्चे बहुत प्रतिभावनसाली हैं.

'कृपया विराट कोहली को..', सुपर 8 मैच से पहले डिविलियर्स ने टीम इंडिया को दी बड़ी सलाह

'मेरे पास समय बहुत कम है', मंच पर क्यों भावुक हो गए MP के राजस्व मंत्री?

सड़क, पानी से लेकर उच्च शिक्षा तक..! जम्मू कश्मीर को हज़ारों करोड़ की सौगात देने आज पहुंचेंगे पीएम मोदी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -