इस बाहुबली मंत्री के बेटे को चुनाव नामांकन के लिए मिली पैरोल

पूर्व मंत्री बाहुबली अमरमणि त्रिपाठी के बेटे अमनमणि को पैरोल मिल गई है, यह पैरोल उन्हें उत्तरप्रदेश विधान सभा चुनाव में बतौर निर्दलीय प्रत्याशी नामांकन के लिए प्राप्त हुई है. अमनमणि अपनी पत्नी सारा की हत्या के आरोप में जेल में बंद थे, उन्हें पैरोल मानवीय सवेंदना के आधार पर इलाहबाद कोर्ट ने दी है. पैरोल याचिका पर सुनवाई होने पर सिर्फ तीन दिन की पैरोल की अनुमति दी है. वर्तमान में वह गाजियाबाद की डासना जेल में बंद है.

अभी अमनमणि निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नाम दाखिल करेंगे, पहले सपा दल ने उन्हें महाराजगंज जिले की नौतनवा विधानसभा सीट से अमनमणि को पहले टिकेट दिया था. किन्तु आज के समय में अमनमणि का चुनाव में कोई अस्तित्व नहीं बचा है, जिस कारण से उन्हें निर्दलीय लड़ना पड़ रहा है. अमनमणि के निर्दलीय लड़ने के लिए नामांकन करवाना भी आसान नहीं था, क्योंकि जेल प्रशासन ने पैरोल को लेके सहायता से इंकार कर दिया था.

गौरखपुर के बहुचर्चित सारा मर्डर केस की जाँच सीबीआई कर रही है. लगभग आरोप भी तय हो चुके है, किन्तु जाँच पूरी होने तक उन्हें डासना जेल में रखा गया है. गौरतलब है की अमनमणि ने सारा से 2013 में अपने माता पिता की मर्जी के खिलाफ शादी की थी. वर्ष 2015 में सारा की एक संदिग्ध दुर्घटना में मौत हो गई थी. मामला तब सुर्खियों में आया जब अमनमणि की सास ने अपनी बेटी की हत्या का आरोप अमनमणि पर लगाया.

अब ये भी पढ़े, 

सपा में नहीं मिला टिकट अब RLD से लड़ेंगे चुनाव

अमरमणि की बेटियों ने संभाली पिता की विरासत

यूपी चुनाव 2017: पहले चरण का मतदान आज

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -