यह एक कल्पना नहीं बल्कि एक वास्तविकता है, वैज्ञानिकों ने मानव मस्तिष्क से एक कंप्यूटर बनाया है, ऊर्जा की समस्या तुरंत हो जाएगी हल!

यह एक कल्पना नहीं बल्कि एक वास्तविकता है, वैज्ञानिकों ने मानव मस्तिष्क से एक कंप्यूटर बनाया है, ऊर्जा की समस्या तुरंत हो जाएगी हल!
Share:

आज के दौर में यह डर बहुत ज़्यादा है कि आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस आख़िरकार इंसानों की जगह ले लेगा। लेकिन, हम जो बताने जा रहे हैं, वह आपको वाकई हैरान कर सकता है।

प्रौद्योगिकी में सफलता

तकनीकी उन्नति के इस युग में, स्वीडन के वैज्ञानिकों ने एक साहसिक दावा किया है: उन्होंने एक ऐसा कंप्यूटर बनाया है जो जीवित है, जिसे मानव मस्तिष्क के ऊतकों से बनाया गया है। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे संभव है। आइए हम इसे स्पष्ट करते हैं।

क्रांतिकारी विकास

वैज्ञानिकों के अनुसार, इस कंप्यूटर का सबसे उल्लेखनीय पहलू यह है कि यह कंप्यूटर चिप की तरह सूचनाओं का आदान-प्रदान करने में सक्षम है। यदि इस कंप्यूटिंग पद्धति को दुनिया भर में अपनाया जाता है, तो यह ऊर्जा संकट को हल करने में सक्षम हो सकती है। दुनिया भर की कंपनियाँ और विश्वविद्यालय अब इस तकनीक पर काम कर रहे हैं।

'जीवित' कंप्यूटर कैसे काम करता है?

इस जीवित कंप्यूटर को स्वीडिश कंपनी फाइनल स्पार्क के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित किए जाने का दावा किया गया है। यह 16 ऑर्गेनोइड्स के समान मस्तिष्क कोशिकाओं से बना है, जो मानव मस्तिष्क में न्यूरॉन्स की तरह एक दूसरे के साथ संवाद करते हैं। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह डिजिटल प्रक्रियाओं की तुलना में 10 मिलियन गुना कम ऊर्जा का उपयोग करता है।

जीवित न्यूरॉन्स से निर्मित

वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि जिन कार्यों के लिए हमारे मस्तिष्क से 10 से 20 वाट ऊर्जा की आवश्यकता होती है, उनके लिए आज के कंप्यूटर 21 मेगावाट ऊर्जा का उपयोग कर रहे हैं। यह कहा जा सकता है कि यह मानव मस्तिष्क से 1,000 गुना अधिक शक्तिशाली है।

ऑर्गेनोइड स्टेम संरचना

फ़ाइनल स्पार्क के सीईओ डॉ. फ्रेड डेलीमेल के अनुसार, यह कंप्यूटर ऑर्गेनॉइड स्टेम से बना है जो खुद की देखभाल कर सकता है। उन्होंने बताया कि इस जीवित कंप्यूटर में मिनी-ब्रेन हैं, जिनमें से प्रत्येक दस हज़ार जीवित न्यूरॉन्स से बना है। ये कोशिकाएँ 100 दिनों तक जीवित रह सकती हैं, जिसके बाद उन्हें ऑर्गेनॉइड से बदला जा सकता है।

निहितार्थ और भविष्य की संभावनाएं

इस सफलता के निहितार्थ बहुत बड़े हैं। यह कंप्यूटिंग और तंत्रिका विज्ञान में नई संभावनाओं को खोलता है, जीव विज्ञान और प्रौद्योगिकी के बीच की रेखाओं को धुंधला करता है। जबकि नैतिक विचार प्रचुर मात्रा में हैं, ऊर्जा दक्षता और कंप्यूटिंग शक्ति में संभावित लाभ निर्विवाद हैं। एक जीवित कंप्यूटर का निर्माण प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। यह हमारी धारणाओं को चुनौती देता है कि क्या संभव है और कृत्रिम बुद्धिमत्ता के भविष्य और प्रौद्योगिकी के साथ मानवता के संबंधों के बारे में गहन प्रश्न उठाता है।

Google ऑनलाइन शुरू करने जा रहा है नया कार्यक्रम, AI को लेकर सीख सकते है आप कई बातें

बच्चों को किस उम्र में पैसे बचाना सिखाया जाना चाहिए, बड़े होने पर यह बहुत काम आएगा

CBSE रिजल्ट के मार्कशीट में सामने आई बड़ी गड़बड़ी! स्कूलों को फिर से करना होगा मूल्यांकन

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -