27 साल तक इंडस्ट्री में राज करने के बाद संन्यासी बनी ये मशहूर एक्ट्रेस

टेलीविज़न की मशहूर अभिनेत्री नुपुर अलंकार (Nupur Alankar) को लेकर एक बड़ी जानकारी सामने आई है। 27 वर्ष तक टेलीविज़न पर अपने अभिनय से लोगों को इंप्रेस करने वाली नुपुर ने इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया है। नुपुर अपनी ग्लैमर लाइफ को छोड़ कर संन्यासी बन चुकी हैं। 

नुपुर अलंकार शक्तिमान, दीया और बाती हम, एवं घर की लक्ष्मी बेटीयां जैसे कई टेलीविज़न शोज में काम कर चुकी हैं। कई वर्षों तक टेलीविज़न पर काम करते हुए नुपुर को वो सुकून नहीं मिला, जिसकी उन्हें तलाश थी। अपने एक इंटरव्यू में नुपुर अलंकार ने कहा, मैंने फरवरी में संन्यास लिया था। मैं तीर्थयात्राओं में व्यस्त हूं तथा जरूरतमंदों की सहायता करने का फैसला लिया। मेरा हमेशा से अध्यात्म की तरफ झुकाव रहा है तथा उसका पालन भी करती आई हूं। इसलिये अब मैंने स्वयं को पूरी तरह इसके लिये समर्पित कर दिया है। मैं गुरु शंभू शरण झा को पाकर धन्य हूं, जिनके कारण मेरे जीवन की दिशा बदल गई। 

टीवी अभिनेत्री से संन्यासी बन चुकीं नुपुर मुंबई से हिमालय की यात्रा पर निकल चुकी हैं। वो बोलती हैं, ये एक बड़ा कदम है। मैंने अपने मुंबई वाले फ्लैट को किराये पर दे दिया है, जिससे ट्रैवल एवं बेसिक खर्चे निकलत रहें। वहीं अपने सन्यासी लुक पर बात करते हुए उन्होंने कहा, कई व्यक्तियों को लगता है कि मैं भावनात्मक तौर पर टूट चुकी हूं तथा जिंदगी से थक कर मैंने ये फैसला लिया है। पर ये सच नहीं है। लॉकडाउन के चलते नुपुर अलंकार आर्थिक तंगी से गुजर रही थीं। उन्होंने लोगों से सहायता की गुहार भी लगाई थी। इस के चलते उनकी मां भी बेहद बीमार हो गई थीं, जिनके उपचार के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। यहां तक वो मां की दवा के लिये 500 रुपये भी नहीं जुटा पा रही थीं। फिर उन्होंने क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म पर सहायता मांगी तथा वहां से उन्हें पैसों की मदद मिली। इसके अतिरिक्त टेलीविज़न जगत से भी कई लोगों ने नुपुर की सहायता की थी। नुपुर का कहना था कि वो 2019 से ही मां की सेवा में लगी हुई थीं। इसलिये उन्हें काम करने का समय नहीं प्राप्त हो रहा था। नुपुर बोलती हैं, मेरे जीवन में अब नाटक की कोई जगह नहीं है। दिसंबर 2020 में मेरी मां के निधन के बाद, मुझे एहसास हुआ कि मुझे अब कुछ भी खोने का डर नहीं है। मैंने स्वयं को सभी पेक्षाओं और कर्तव्यों से मुक्त महसूस किया। आगे वो कहती हैं कि मेरे संन्यास में देरी हो गई, क्योंकि मेरे बहनोई (कौशल अग्रवाल) अफगानिस्तान में फंस गए थे, जब तालिबान ने देश पर कब्जा कर लिया था।

भाई की शादी में शिखा को देखते ही दिल दे बैठे थे राजू श्रीवास्तव, 12 साल किया इंतज़ार

'राजू श्रीवास्तव को चमत्कार ही बचा सकता है...', इस मशहूर कॉमेडियन ने दिया बड़ा बयान

दाउद इब्राहिम से मिली थी राजू श्रीवास्तव को धमकी, हैरान कर देने वाली है वजह

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -