एप्पल के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स का 66 वां जन्मदिन आज

Feb 24 2021 09:30 AM
एप्पल के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स का 66 वां जन्मदिन आज

आज स्टीव जॉब्स के जन्मदिन पर हम आपको बता रहे है उनके जीवन से जुडी कुछ बेहद ही ख़ास बातों के बारे में। जैसा कि हमने अपने पुराने लेख में बताया, स्टीव का जीवन हमेशा से मुश्किलों से भरा हुआ रहा। उनके जीवन में कई बड़े उतार चढ़ाव आए। ऐसी ही एक घटना तब हुई जब उन्हें ये मालूम चला कि वे अपने पेरेंट्स की अवैध संतान है। उनके माता-पिता ने उन्हें एक ऐसे जोड़े से गोद लिया था जो बिना शादी के ही मां-बाप बन गए थे। जिस मां ने जीवनभर उन्हें पाला उन्होंने ये बात अपने आखरी समय में स्टीव को बताई। इस बात का स्टीव की मनोदशा पर ऐसा असर पड़ा कि उन्होंने अपने असली माता-पिता को खोजने के लिए प्राइवेट जासूस तक की सेवाएं ली। स्टीव के लिए कंप्युटर बनाना उनके लिए बाएं हाथ का काम था।

अपने एक दोस्त स्टीव वोज्नियाक के साथ मिलकर उन्होंने गैराज में एप्पल कंपनी की शुरुआत की। धीरे-धीरे लोगों को उनके बनाये कंप्युटर भी पसंद आने लगे। कंपनी बढऩे लगी। स्टीव मार्केटिंग की कला में भी माहिर थे। साथ ही वे ये भी बहुत अच्छे से समझते थे कि तकनीक को बदलती जीवनशैली के साथ कैसे गढ़ा जाएं। एप्पल के मैकिनतोश कंप्युटर ने पर्सनल कंप्युटर की दुनिया में क्रांति कर दी। स्टीव की कल्पनाशीलता और मार्केटिंग से उनके प्रतिद्वंद्वी काफी हैरान थे। हालांकि 1985 में उन्हें खुद की कंपनी से ही बाहर निकाल दिया गया। ऐसी स्थिति में कोई भी हार मान सकता था लेकिन स्टीव ने इसे एक चुनौती के रूप में लिए।

स्टीव ने हार ना मानते हुए एप्पल से बाहर आ पिक्सर और नेक्स्ट नाम की दो नई कंपनियों की शुरुआत की और उन्हें बुलंदियों तक भी पहुंचाया। लेकिन इस दौरान एप्पल को भारी नुकसान होने लगा। उनकी जिंदगी में आगे भी कई ऐसी घटनाये हुई। आगे के लेख में हम आपको बताएँगे कि कैसे स्टीव ने अपनी कामयाबी की गाथा लिखी और किस प्रकार उन्होंने तकनीक की दुनिया में खलबली बचाई।

कोरोना के नए स्वरुप का कहर, देश में 187 मरीज ब्रिटेन स्ट्रेन से ग्रसित

गुजरात निकाय चुनाव में भाजपा की जीत से गदगद मोदी-शाह, जनता को कहा- 'शुक्रिया'

पंजाब में कोरोना का हुआ विस्फोट, कोरोना की चपेट में आए 4 हजार में से 13 टीचर