बाबासाहेब के देहांत पर पीएम मोदी समेत इन दिग्गजों ने व्यक्त किया शोक

नई दिल्ली: हिन्दुस्तान के जाने-माने इतिहासकार और लेखक बाबासाहेब पुरंदरे का सोमवार प्रातः पुणे के दीनानाथ मंगेशकर मेमोरियल हॉस्पिटल में देहांत हो गया। वे 99 साल के थे। हॉस्पिटल प्रशासन के अनुसार, पुरंदरे को शनिवार यानि कि 13 नवंबर 2021 को हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था, जिसके उपरांत हालात गंभीर होने के बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रख दिया गया। इसके बाद से ही उनकी स्थिति में कोई भी सुधार देखने को नहीं मिला। 

वहीं इसी वर्ष, पीएम नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो संदेश के माध्यम से पुरंदरे को शुभकामनाएं दी थी. पीएम मोदी ने  बोला था कि -“बाबासाहेब का कार्य प्रेरणादायक है. मैं छत्रपति शिवाजी महाराज के जीवन पर आधारित बाबासाहेब के नाटक 'जनता राजा' को देखने के लिए पुणे पंहुचा था. यहां तक ​​कि जब बाबासाहेब अहमदाबाद आते थे तो मैं उनके कार्यक्रमों में भी जाया करता था.” बाबासाहेब पुरंदरे का जन्म 29 जुलाई, 1922 को हुआ था, उन्हें 2019 में भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है.

बाबासाहेब पुरंदरे के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने शोक व्यक्त किया. उन्होंने ट्वीट करके बोला है कि शिवशहीर बाबासाहेब पुरंदरे अपने व्यापक कार्यों  की वजह से जीवित रहेंगे. इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और अनगिनत प्रशंसकों के साथ हैं. ओम शांति.

गृहमंत्री अमित शाह ने अपनी संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि कुछ वर्ष पूर्व बाबासाहेब पुरंदरे जी से भेंट कर एक लम्बी चर्चा करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था. उनकी ऊर्जा और विचार सचमुच प्रेरणीय थे. उनका निधन एक युग का अंत है. उनके परिजनों व असंख्य प्रशंसकों के प्रति संवदेनाएं व्यक्त करता हूं. प्रभु उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें. ॐ शांति

 

वहीं, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने ट्वीट करते हुए कहा कि शिवशहीर बाबासाहेब पुरंदरे के निधन के साथ, महाराष्ट्र ने साहित्य और कला के क्षेत्र में अपनी चमक खो दी. उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि!

 

देशभर में छाया शोक, नहीं रहे पद्म विभूषण से सम्मानित इतिहासकार-लेखक बाबासाहेब पुरंदरे

VIDEO: पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर उतारा गया फाइटर प्लेन

दर्दनाक: बारात का स्वागत करने के लिए खड़े थे लोग और हो गए मौत का शिकार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -