जानिए कैसे बन सकते है IFS ऑफिसर?

इंडियन फॉरेन सर्विस (IFS) ये क्या होता है? इसे करने के पश्चात् किस सेक्टर में नौकरी मिलती है? ये प्रश्न यदि आपके दिमाग में और आप IFS अधिकारी बनना चाहते हैं तो यहां दी गई सारी जानकारी एक बार अवश्य पढ़ें। इंडियन फॉरेन सर्विस यह भारतीय विदेश मंत्रालय को चलाने के लिए एक विशेष सेवा है। जो भारत के बाहर होने वाले कामों को मैनेज करती है। IFS अधिकारी दूसरे देशों मतलब की अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों में प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके अतिरिक्त भारत के साथ दूसरे देश के कल्चरल रिश्ते को कैसे बढ़ावा देना इसकी जिम्मेदारी भी IFS अधिकारी को होती है। यह एक बहुत ही जिम्मेदारी वाली पोस्ट होती है। वही इस पद पर आपको विदेशों में रहने का अवसर प्राप्त होता है। IFS अधिकारी एक बहुत सम्मानजनक पोस्ट मानी जाती है। वही भारत में रहने वाले विदेशियों एवं नॉन-रेसिडेंट को काउंसलर फैसिलिटी प्रोवाइड कराने का काम भी IFS अधिकारी का होता है।

कैसे बनते हैं IFS अधिकारी:-
IFS अधिकारी बनने के लिए UPSC द्वारा परीक्षा आयोजित कराई जाती है। UPSC द्वारा सिविस सर्विसेज एग्जाम देना होता है। परीक्षा प्रत्येक वर्ष आयोजित कराई जाती है। इसे पास करने वाले विद्यार्थी ही IAS, IPS तथा IFS स्तर की नौकरी पा सकते हैं। परीक्षा में हासिल किए गए अंकों एवं आपकी प्रिफरेंस के आधार पर ही किसी सर्विस में आपका सिलेक्शन हो सकता है।

क्या योग्यता होनी चाहिए:-
IFS अधिकारी बनने के लिए किसी भी स्ट्रीम से 12वीं उत्तीर्ण करने के पश्चात् ग्रेजुएशन करना आवश्यक है। यदि आप डिग्री कोर्स के अंतिम वर्ष में हैं तो IFS अधिकारी के लिए होने वाले प्री-एग्जाम दे सकते हैं। IFS अधिकारी की परीक्षा देने के लिए उम्मीदवार की आयु 21 वर्ष से 30 वर्षों के बीच होनी चाहिए।

दर्दनाक हादसा! एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत

एनपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा 2021 एडमिट कार्ड जारी

किसी के सामने निकाल लिया प्राइवेट पार्ट तो किसी अभिनेत्री को कपड़े उतारने के लिए कह चुके हैं साजिद खान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -