आज हम आपको बताते हैं 26 जनवरी से जुडी कुछ रोचक बातें

आप सभी जानते ही होंगे कि हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. इसे भारत का राष्ट्रीय पर्व कहा जाता है और इस पर्व को सभी भारत के नागरिक पूरे उत्साह, जोश और सम्मान के साथ मनाते हैं. इस दिन हमारे देश का संविधान लागु हुआ था। जी हाँ, 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत एक गणतंत्र देश बन गया था और इस दिन सभी जाति एवं वर्ग के लोगों को एक कर दिया गया था. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं गणतंत्र दिवस की कुछ ख़ास बातें.  

* आपको बता दें कि 26 जनवरी 1955 में राजपथ पर आयोजित पहले गणतंत्र दिवस समारोह में पाकिस्तान के गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद विशेष अतिथि बनकर आए थे.

* आपको बता दें कि भारतीय संविधान की दो प्रतियां हैं, एक अंग्रेजी में और एक हिंदी में. भारत के संविधान की दोनों प्रतियाँ हस्तलिखित हैं.

* कहा जाता है साल 1957 में सरकार ने बच्चों के लिए राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार शुरू किया, जो कि 16 साल से कम उम्र के बच्चों को

* अलग-अलग क्षेत्र में बहादुरी के लिए गणतंत्र दिवस पर देते हैं.

* इस दिन परेड का सबसे रोचक हिस्सा "फ्लाईपास्ट" होता है. जी हाँ, इस फ्लाईपास्ट की जिम्मेवारी पश्चिमी वायुसेना कमान के पास होती है जिसमें 41 विमान भाग लेते हैं. इस परेड में शामिल होने वाले विभिन्न विमान वायुसेना के अलग-अलग केन्द्रों से उड़ान भरते हैं और तय समय पर राजपथ पर पहुँच जाते है.

* कहा जाता है साल 1950-54 तक, इरविन स्टेडियम (जिसे अब नेशनल स्टेडियम कहा जाता है), लाल किला, रामलीला मैदान और किंग्सवे में गणतंत्र दिवस मनाते थे.

* आपको बता दें कि साल 1953 में पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में लोक नृत्य और आतिशबाजी शामिल हुए थे.

* आपको बता दें कि 26 जनवरी 1950 को डॉ.राजेन्द्र प्रसाद ने गवर्नमेंट हाउस के दरबार हाल में भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी.

* आपको शायद ही पता होगा पहले गणतंत्र दिवस के समय, भारत के राष्ट्रपति को 31 तोपों की सलामी से बधाई दी गई थी.

आज शुरू होगी फुल ड्रेस रिहर्सल परेड, बंद रहेंगे मेट्रो स्टेशन

इन ख़ास शायरी और संदेशों से आप दे सकते हैं अपनों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

Republic Day Sale: इस धमाकेदार ऑफर के साथ मिल रहा है Redmi 8A, जानें क्या है इसकी खासियत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -